Moneycontrol » समाचार » निवेश

Covid-19: इमरजेंसी के लिए कई तरह के पर्सनल लोन हैं, जानिए आपके लिए क्या सही है?

लॉकडाउन की मुश्किल में बैंक खास पर्सनल लोन दे रहे हैं, जानिए सामान्य पर्सनल लोन से उनमें अलग क्या सुविधाएं हैं
अपडेटेड May 12, 2020 पर 16:15  |  स्रोत : Moneycontrol.com

नवीन कुकरेजा


लॉकडाउन की वजह से शुरू हुए नकदी संकट में कुछ बैंकों ने अपने मौजूदा ग्राहकों के लिए Covid-19 स्पेशल पर्सनल लोन लॉन्च किए हैं। बैंक वैसे सामान्य पर्सनल लोन भी देते हैं। ऐसे में सामान्य पर्सनल लोन और Covid-19 पर्सनल लोन की तुलना से यह पता चलेगा कि इनकी क्या खासियत है और आपकी जरूरत के मुताबिक क्या ठीक है। मैं उन लोगों के लिए कुछ अन्य लोन विकल्पों पर भी बात करूंगा जो Covid-19 पर्सनल लोन के लिए योग्य नहीं हैं।


कड़ी लोन योग्यता


पर्सनल लोन की लिए आपकी योग्यता आपकी मासिक आय, जॉब प्रोफाइल, क्रेडिट स्कोर, किस संस्थान के लिए काम करते हैं और अन्य पैमानों पर निर्भर करती है। लोन संस्थान आमतौर पर पर्सनल लोन आवेदन करने के लिए आवेदक के साथ किसी भी मौजूदा ग्राहक संबंध पर ज़ोर नहीं देते हैं।
 
Covid-19 स्पेशल पर्सनल लोन की पेशकश करने वाले बैंकों ने ये लोन को अपने मौजूदा ग्राहकों के एक चुनिंदा समूह के लिए पेश किए हैं। इनमें मौजूदा उधारकर्ताओं, सैलरी अकाउंट वाले ग्राहक या पेंशन खाताधारकों का निर्धारित समूह शामिल है। इसके अलावा, लोन आवेदकों के पास  लॉकडाउन से पहले की एक अच्छी क्रेडिट प्रोफ़ाइल और लोन भुगतान का एक अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड होना आवश्यक है।


कम लोन राशि


सामान्य पर्सनल लोन की अधिकतम लोन राशि आमतौर पर लोन अवधि और लोन भुगतान क्षमता के आधार पर 50,000 रु. से 20 लाख रु. तक के बीच होती है। कुछ लोन संस्थान 40 लाख रु. तक की बड़ी लोन राशि देने का दावा भी करते हैं।   


Covid-19 स्पेशल पर्सनल लोन के मामले में, अधिकतम लोन राशि को कम कर 25,000 रु. से लेकर 5 लाख रु. के बीच रखा गया है, क्योंकि ये लोन विशेष रूप से लॉकडाउन के कारण उत्पन्न होने वाले अस्थायी नकदी संकट की कमी को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।


कम ब्याज दर और प्रोसेसिंग फीस


सामान्य पर्सनल लोन के लिए ब्याज दर 8.75% और 26% प्रति वर्ष के बीच होती है, ये लोन संस्थान और आपके क्रेडिट प्रोफाइल पर निर्भर करता है। प्रोसेसिंग फीस लोन राशि का 4% तक जितनी ज़्यादा हो सकती है जबकि त्योहारों के मौसम के दौरान कुछ लोन संस्थान छूट भी देते हैं।


चूंकि Covid-19 स्पेशल पर्सनल लोन अच्छे क्रेडिट प्रोफाइल वाले मौजूदा ग्राहकों को दिए जा रहे हैं, वे बहुत कम ब्याज दरों और प्रोसेसिंग फीस के साथ पेश किए गए हैं। उनकी ब्याज दर न्यूनतम 7.20% प्रति वर्ष से लगभग 10.25% प्रति वर्ष तक जा सकती है। वहीं उनकी प्रोसेसिंग फीस 500 रु. तक अधिकतम हो सकती है जबकि कई लोन संस्थान ज़्यादातर शून्य प्रोसेसिंग फीस वसूल रहे हैं।


लोन अवधि


पर्सनल लोन के लिए सामान्य तौर पर भुगतान अवधि 1 से 5 वर्ष के बीच होती है, जबकि कुछ लोन संस्थान अधिकतम 7 वर्ष तक की लोन भुगतान अवधि पेश करते हैं। दूसरी ओर, Covid-19 स्पेशल पर्सनल लोन अधिकतम 3 वर्ष की लोन भुगतान अवधि के साथ दिए जा रहे हैं जबकि कुछ लोन संस्थान अधिकतम 5 वर्ष तक जितनी भुगतान अवधि भी पेश कर रहे हैं।


ध्यान दें, कि ज़्यादातर लोन संस्थान Covid-19 स्पेशल पर्सनल लोन पर 3 से 6 महीनों का मोराटोरियम पीरियड (लोन प्राप्त करने के बाद भुगतान शुरू करने के बीच का समय) दे रहे हैं, इसमें उधारकर्ता को केवल ब्याज चुकाना होता है। मोराटोरियम पीरियड का प्रावधान कोविड-19 पर्सनल लोन लेने वालों को राहत देने का एक तरीका है, जब तक कि उनकी आर्थिक स्तिथि सामान्य नहीं हो जाती।


अन्य विकल्प


कम ब्याज दर, शून्य प्रोसेसिंग फीस और 3 से 6 महीनों के मोराटोरियम पीरियड की उपलब्धता कोविड-19 विशिष्ट पर्सनल लोन के सबसे बड़े लाभ हैं। इसलिए, ऐसे कोविड-19 पर्सनल लोन की पेशकश करने वाले बैंकों के मौजूदा ग्राहक अपने नकदी संकट को कम करने के लिए इन लोन पर विचार कर सकते हैं। हालांकि, ऐसे व्यक्ति जिनके ऐसे लोन संस्थानों के साथ कोई संबंध नहीं रहे हैं अन्य लोन संस्थानों द्वारा दिए गए तत्काल डिजिटल पर्सनल लोन चुनने पर विचार कर सकते हैं।


तत्काल नकदी आवश्यकताओं वाले क्रेडिट कार्डधारक क्रेडिट कार्ड के बदले प्री-अप्रूव्ड लोन का विकल्प चुन सकते हैं। ऐसे लोन, अच्छा भुगतान रिकॉर्ड रखने वाले कार्डधारकों को आवेदन करने के एक ही दिन के भीतर उनकी क्रेडिट लिमिट के बदले दिए जाते हैं। हालांकि, सामान्य पर्सनल लोन की तुलना में इनकी ब्याज दरें थोड़ी अधिक हो सकती हैं।


जिन लोगों ने वर्तमान में होम लोन लिया हुआ है, वो टॉप-अप होम लोन का विकल्प चुन सकते हैं। पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड के बदले लोन की तरह, टॉप-अप होम लोन लोन के उपयोग पर कोई प्रतिबंध नहीं है और आमतौर पर ये समान क्रेडिट प्रोफ़ाइल वाले उपभोक्ताओं को अन्य लोन विकल्पों की तुलना में कम ब्याज दर मिल जाते हैं। इसके अलावा, अन्य लोन विकल्पों की तुलना में, वे मौजूदा उधारकर्ता की लोन अवधि के आधार पर अधिक लम्बी अवधि प्रदान करते हैं। हालांकि, टॉप-अप होम लोन आवेदन का वितरण लॉकडाउन प्रतिबंधों के दौरान लोन आवेदनों की प्रक्रिया आगे ले जाने की लोन संस्थान की क्षमता पर निर्भर करेगा।


लेखक https://www.paisabazaar.com/ के CEO & Co-Founder हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।