Moneycontrol » समाचार » निवेश

SIP में बढ़ा निवेशकों का भरोसा, जानिए एक्सपर्ट गिरते बाजार में भी क्यों दे रहे है निवेश की सलाह

जानकारों का कहना है कि ऐसे बाजार में निवेशकों को SIP बढ़ानी चाहिए क्योंकि गिरते बाजार में ज्यादा यूनिट मिलेंगें।
अपडेटेड Apr 10, 2020 पर 16:53  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

निवेश ऐसा हो जो आपको जोखिम कम, और मुनाफा ज्यादा दे। लेकिन जब समय खराब होता है, तो अच्छे से अच्छे निवेश में आपको घाटा झेलना पडता है- लेकिन हार के जीतने वाले के ही तो बाजीगर कहते हैं। लाइन फिल्मी है, लेकिन सौ टका खरी, क्योंकि खराब समय में तो सब प्सत है, लेकिन उस से कौन जल्द से जल्द उबर पाए, असली फाइट तो वहीं है। कहां आपके घाटे की रिकवरी सबसे जल्दी है, दांव वहीं लगाना चाहिए। निवेश से जुडी इसी तरह की बारीकियों के साथ हाजिर आपका चहेता शो योर मनी जिसमें आपको निवेश की बारिकियां समझाने के लिए हमारा साथ देगे Optima Money Managers के MD पंकज मठपाल और फाइनेंशियल प्लानर गैरव मश्रुवाला।


AMFI के डाटा के मुताबिक निवेशकों का भरोसा SIP निवेश इनफ्लो रिकॉर्ड हाई पर है। मार्च में SIP इनफ्लो 8,641 करोड रुपये रहा है जबकि फरवरी में SIP इनफ्लो आंकडा 8,512 करोड रुपये रहा है। वहीं इक्विटी म्यूचुअल फंड में से लार्ज कैप और मल्टी कैप फंड निवेशकों का पसंदीदा फ्लेवर बना है। इक्विटी MF में मार्च में इनफ्लो 11,723 करोड़ रुपये रहा है जबकि इक्विटी MF में फरवरी इनफ्लो  10,795  करोड़ रुपये रहा है।


AMFI के डाटा के मुताबिक लार्ज और मल्टी कैप फंड में निवेशकों का रूझान सबसे ज्यादा है। मिडकैप फंड में निवेश बरकरार है जबकि  स्मॉल कैप फंड में निवेश कम हुआ है।  डेट फंड में नेट आउटफ्लो 2.12 लाख करोड रुपये है जबकि लिक्विड फंड में 1.10 लाख करोड का विथड्रावल हुआ है। लो ड्यूरेशन फंड का विदड्रॉल 29,052 करोड़ रुपये हुआ है। आर्बीट्राज फंड का आउटफ्लो 33,767 करोड रुपये रहा है। ELSS में फरवरी के 871 करोड के मुकाबले मार्च में 1551 करोड का इनफ्लो हुआ है।


जानकारों का कहना है कि ऐसे बाजार में निवेशकों को SIP बढ़ानी चाहिए क्योंकि गिरते बाजार में ज्यादा यूनिट मिलेंगें। SIP जारी रखने से लक्ष्य पूरा करना संभव होता है। SIP का टॉप अप किया जा सकता है। टॉप अप- निर्धारित समय पर निर्धारित राशि से SIP बढाना चाहिए। चुनिंदा फंड में एकमुश्त निवेश की रणनिती बनाएं। चल रही SIP के अलावा एकमुश्त निवेश किया जा सकता है। STP के जरिए किश्तों में निवेश करें। STP  के लिए लिक्विड फंड का चुनाव करें। NAV में गिरावट से निपटने के लिए निवेश बढाना जरूरी है।


बता दें कि केंद्र सरकार ने हाल ही में वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में PPF, KVP जैसी विभिन्न स्मॉल सेविंग स्कीम के ब्याज दर में 0.70 फीसदी से 1.40 फीसदी तक की कटौती कर दी है। यानि PPF पर अप्रैल-जून तिमाही में 7.1% का ब्याज मिलेगा जबकि KVP पर ब्याज दर 6.9% की गई है। 5 साल के पोस्ट ऑफिस RD पर ब्याज दर 5.8% मिलेगा जबकि 5 साल के टाइम डिपॉजिट पर 6.7% ब्याज दर मिलेगा। सुकन्या समृद्धि योजना पर मिलने वाली ब्याज दर 7.6% कर दी गई है।  5 साल के सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम पर 7.4% ब्याज दर  की गई है।


कोरोना के बीच निवेश का मौका


कोरोना संकट के बीच  अगर निवेश का मौका तलाश रहें लोगों के लिए लॉर्ज कैप में निवेश करना बेहद फायदेमंद है। लॉर्ज कैप फंड में निवेशक Axis Bluechip, ICICI Pru BluechiP, Mirae Asset Large cap में निवेश करना फायदेमंद होगा।


वहीं मल्टीकैप फंड में निवेश के मौके तलाश रहें निवेशकों को Canara Robeco Equity Diversified, Motilal Oswal Multi cap 35, Parag Parikh Long Term Equity फंड में निवेश करना चाहिए।


इधर मिडकैप फंड में निवेश के मौके तलाश रहें निवेशकों को DSP Midcap, Kotak Emerging Equities और L&T Mid cap फंड में निवेश करना चाहिए। साथ ही जो निवेशक स्मॉल कैप फंड में निवेश करना चाहते है उनके लिए Axis Small Cap और SBI Small cap फंड निवेश के लिए बेहतर है।


जानकारों का मानना है कि शॉर्ट टर्म डेट फंड में निवेश के मौके तलाश रहें निवेशकों को HDFC Short Term Fund, ICICI Pru Short Term Fund और Kotak Bond Short Term में निवेश करना चाहिए।



सवालः Icici value discvry में 6 साल से निवेश जारी है। परफॉर्म नही कर रहे फंड से परेशान है क्या करें?


जवाब: ICICI Value Discovery Fund वैल्यू प्रिंसिपल को मानता है। वैल्यू इंवेस्टिंग में किफायती स्टॉक में निवेश करते है। स्टॉक के फंडामेनटल पर ज्यादा फोकस होता है। ICICI Value Discovery Fund का 70%  निवेश लार्जकैप में होता है जबकि 24% निवेश मिड कैप में है।फंड के पोर्टफोलियो में 44 स्टॉक है। ऐसे में इस फंड में बने रहने की सलाह होगी। एक ही AMC में फंड डायरेक्ट स्विच होते हैं। दुसरी AMC के लिए यूनिट रिडिम करें ।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।