Moneycontrol » समाचार » निवेश

शार्ट टर्म लोन सर्च कर रहे हैं तो ये है बेहतर उपाय

गोल्ड लोन एक ऐसा लोन है जहां आप अपनी मन मर्जी से जितना चाहें उतना लोन ले सकते हैं।
अपडेटेड May 21, 2019 पर 09:24  |  स्रोत : Moneycontrol.com

बड़े शहरों की ज़िंदगी सरपट चाल से भागती है। ये भागदौड़ भरी जिंदगी अर्थ से जुड़ी रहती है। पैसों की जरूरत कब, किसे, कहां, किसलिए पड़ जाए ये किसी को नहीं पता। ऐसे में हमारे पास सबसे पहले दिमाग में एक ही बात आती है कि क्रेडिट कार्ड है तो फिर जरूरत क्या है, या फिर हम सोचते हैं कि पर्सनल लोन ले लें। लेकिन इन सबको छोड़कर एक बात सोचिए कि अगर आपको बच्चों की स्कूल फीस देनी है, मेडिकल बिल देना है, इन सब जगहों पर तो क्रेडिट कार्ड काम करेगा नहीं।


लिहाजा एक ऐसे लोन की तलाश शुरू हो जाती है जो कम समय पर और जल्द ही मिल जाए। जितना चाहें उतना मिल जाए। ईएमआई देने की कोई टेंशन न हो। जब हो तब दें। बस आपको तय समयानुसार ब्याज देना पड़ेगा। इसका उपयोग दक्षिण भारत में अधिक होता है। और वो लोन है गोल्ड लोन। जी हां गोल्ड लोन लेना सबसे बढ़िया रास्ता है। गोल्ड लोन पाने के लिए खास बात ये है कि आपको इनकम प्रूफ की आवश्यकता नहीं है। इसकी ईएमआई की शेड्यूल भी बहुत सरल है। इसको चुकाने के लिए कोई समय सीमा नहीं है। जब आप चाहें इसको चुका सकते हैं।
 
कैसे काम करता है ?



गोल्ड लोन पाने के लिए आपको अपने गोल्ड को एनबीएफसी या बैंक में देना होगा। बैंक उसकी वैल्यू निकालेंगे। फिर उस वैल्यू का 75 फीसदी तक लोन लिया जा सकता है। नियमित रूप से इसकी ब्याज भरनी होती है। इसकी ईएमआई भी सरल होती है। आपके पास रकम एकत्र होने पर इसे कभी निकाल सकते हैं।




कैसे पाएं गोल्ड लोन ?



सबसे पहले एक गोल्ड लोन देने वाले संस्थान (NBFC या Bank) में जाएं।



अपना केवाईसी डॉक्यूमेंट दें और वैल्यूएशन के लिए गोल्ड की ज्वेलरी दें।



वेल्यूएशन के बाद लोन देने वाली कंपनी आपको अधिकतम लोन अमाउंट और वर्तमान स्कीम के बारे में बताएगी कि कितना लोन चाहिए उसकी रकम और कब तक चाहिए यानी समय बताना होगा। फिर आपकी दी हुई जूलरी के मूल्य का 75 फीसदी तक मिल सकता है।



अगर आपको लोन एमाउंट में कैश में लेने की जरूरत है तो आप कैश में ले सकते हैं। या फिर अपने बैंक खाते में भी ले सकते हैं।


पैसा कलेक्ट करने की रसीद अवश्य लें।



इंट्रेस्ट का नियमित रूप से पेमेंट करना चाहिए।



मेच्योरिटी के समय बकाया राशि का भुगतान करें और अपनी ज्वैलरी को वापस लें।