Moneycontrol » समाचार » निवेश

PPF, NSC और अन्य पोस्ट ऑफिस स्कीम की ब्याज दरों में नहीं हुआ कोई बदलाव

सरकार ने स्मॉल सेविंग स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट में अप्रैल जून तिमाही के लिए 0.70 फीसदी से 1.40 फीसदी तक की कटौती की थी
अपडेटेड Jul 02, 2020 पर 17:10  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस काल में सरकार ने फिक्स्ड इनकम इन्वेस्टर्स (fixed income investors) के लिए राहत खबर दी है। अगर आप स्मॉल सेविंग स्कीम्स में इन्वेस्ट करते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। सरकार ने फिस्कल ईयर 2020-21 के जुलाई सितंबर के लिए स्मॉल सेविंग स्कीम्स (small savings schemes) या पोस्ट ऑफिस स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट्स (interest rates) में कोई बदलाव नहीं किया है। इस बारे में पोस्ट ऑफिस विभाग (Department of Posts) ने 1 जुलाई 2020 को एक सर्कुलर के जरिए इसकी घोषणा कर दी है।


जारी किए गए सर्कुलर के मुताबिक, फिस्कल ईयर 2020-21 की दूसरी तिमाही (second quarter) के लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Provident Fund-PPF) में 7.10 फीसदी इंट्रेस्ट रेट मिलता रहेगा। सीनियर सिटिजन्स सेविंग्स स्कीम (Senior Citizens Savings Scheme-SCSS) में 7.40 फीसदी इंट्रेस्ट रेट जारी रहेगा। इसी तरह पोस्ट ऑफिस में जमा राशि पर 5.5 से 6.7 फीसदी की रेंज इंट्रेस्ट रेट मिलता रहेगा। यह इंट्रेस्ट रेट 1 जुलाई 2020 से 30 सितंबर 2020 तक लागू रहेगा। कुल मिलाकर जो पहली तिमाही में इंट्रेस्ट रेट था, वहीं दूसरी तिमाही में भी है।   


अप्रैल-जून तिमाही के लिए सरकार ने स्मॉल सेविंग स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट में 0.70-1.40 फीसदी तक की कटौती कर दी थी। अगर सरकार दूसरी तिमाही के लिए भी इंट्रेस्ट रेट में कटौती करती तो PPF का इंट्रेस्ट रेट 7 फीसदी से नीचे चला जाता, जो कि 46 साल का सबसे निचला स्तर होता।


स्मॉल सेविंग स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट में नहीं बदलाव होने से छोटे इन्वेस्टर्स को बड़ी राहत मिली है। RBI ने अपनी मॉनेट्री पॉलिसी में कटौती कर दी है। जिससे बैंकों ने भी इंट्रेस्ट रेट घटा दिए हैं। कुछ FD के इंट्रेस्ट रेट तो सेविंग अकाउंट के इंट्रेस्ट रेट से भी कम हैं। बैंकों के सेविंग्स अकाउंट्स के इंट्रेस्ट रेट में भी काफी कमी आई है।


हर तिमाही इंट्रेस्ट रेट्स की होती है समीक्षा


स्मॉल सेविंग स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट की हर तिमाही समीक्षा होती है। इन स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट तय करने का फॉर्मूला श्यामला गोपीनाथ कमिटी (Shyamala Gopinath Committee) ने दिया था। कमिटी समिति ने सुझाव दिया था कि स्मॉल सेविंग स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट्स समान मैच्योरिटी वाले सरकारी बांड के यील्ड  से 0.25-1.00 फीसदी ज्यादा होनी चाहिए।
 
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।