Moneycontrol » समाचार » निवेश

PPF अकाउंट पर नया नियम, अब PPF खातों की कुर्की नहीं हो सकती

नए नियम के तहत कोई अकाउंट होल्डर अगर कोई कर्ज नहीं चुका पाता है, डिफॉल्ट करता है तो कोर्ट उसके PPF का पैसा जब्त करने का ऑर्डर नहीं दे सकता है
अपडेटेड Dec 18, 2019 पर 10:03  |  स्रोत : Moneycontrol.com

केंद्र सरकार ने पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) का एक नया नियम नोटिफाई किया है। इस नए नियम के मुताबिक किसी शख्स के डिफॉल्ट करने पर उसके PPF की रकम की कुर्की जब्ती नहीं हो सकती है।


इस नए नियम को पब्लिक प्रोविडेंट फंड स्कीम 2019 (Public Provident Fund Scheme 2019) कहा जा रहा है। नया नियम तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है।


क्या है नया नियम?


नए नियम के तहत कोई अकाउंट होल्डर अगर कोई कर्ज नहीं चुका पाता है, डिफॉल्ट करता है तो कोर्ट उसके PPF का पैसा जब्त करने का ऑर्डर नहीं दे सकता है।


इसमें एक नियम PPF अकाउंट की मेच्योरिटी के बाद एक्सटेंशन से भी जुड़ा हुआ है। इसके तहत 15 साल की अवधि पूरी हो जाने के बावजूद अगर कोई PPF अकाउंट में कॉन्ट्रिब्यूशन जारी रखना चाहता है तो वह जारी रख सकता है। नए नियम के तहत अगले 5 साल के लिए PPF अकाउंट को एक्सटेंड कर सकते हैं।


5 साल का ब्लॉक पीरियड खत्म होने के बाद ही आपको PPF खाते से पैसा निकालने की अनुमति दी जाएगी। इसमें खाताधारक को मैक्सिमम 50 फीसदी रकम निकालने की इजाजत होगी।


कोई भी शख्स फॉर्म -1 भरकर PPF अकाउंट खुलवा सकता है। अगर वो चाहे तो किसी माइनॉरिटी के नाम पर भी PPF खाता खुलवा सकता है। किसी नाबालिग के नाम पर सिर्फ एक ही PPF खाता खुलवाया जा सकता है। किसी माइनर के साथ ज्वाइंट खाता खुलवाने का कोई विकल्प नहीं है।


क्या है निवेश की सीमा?


PPF अकाउंट में कम से कम 500 रुपए का निवेश करना जरूरी है। ज्यादा से ज्यादा एक फाइनेंशियल ईयर में 1.5 लाख रुपए निवेश कर सकते हैं। इस 1.5 लाख रुपए की सीमा में ही नाबालिग का PPF अकाउंट खुलेगा। यानी आपका और नाबालिग के PPF अकाउंट की रकम मिलाकर एक फाइनेंशियल ईयर में 1.5 लाख रुपए से ज्यादा नहीं हो सकता। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।