Moneycontrol » समाचार » निवेश

निवेश और जोखिम का गणित, उठाएं रिस्क का फायदा

प्रकाशित Tue, 31, 2018 पर 09:39  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

हर तरह के निवेशक होते हैं। ज्यादा जोखिम लेने वाले, कम जोखिम वाले और बिलकुल जोखिम नही लेने वाले, जिसके लिए हर तरह के निवेशक के लिए बाजार में निवेश विकल्प मौजूद है। लेकिन दुविधा ये है, के इन्हे आप कैसे पहचानें तो इसमें आपका साथ देने के लिए आपकी मदद करेगें वाइजइन्वेस्ट एडवाइजर्स के सीईओ हेमंत रुस्तगी।


हेमंत रुस्तगी का कहना है कि रिस्क समझने से निवेश की राह आसान होती है। निवेश के साथ जोखिम होता है, लेकिन निवेश करने से पहले अपने रिस्क को समझें। लक्ष्य के लिए जोखिम की क्षमता को पहचाने। हर उम्र के लिए जोखिम उठाने की क्षमता अलग-अलग होती है। कम उम्र में निवेश पर ज्यादा जोखिम उठा सकते हैं।  रिस्क की समझ से बाजार की गिरावट से उबरने में मदद मिलती है। रिटायरमेंट से पहले पोर्टफोलियो को कंजर्वेटिव रखें। वैल्यूएशन और रिटर्न के लिए कंजर्वेटिव पोर्टफोलियो जरूरी बनाएं।


उन्होंने आगे बताया कि जोखिम कम होने के लिए बाजार की चाल समझना जरूरी है। कम जोखिम और ज्यादा फायदे के लिए बाजार को समझें। बाजार की जानकारी होने से लंबी अवधि में फायदा मिलता है।


हेमंत रुस्तगी के मुताबिक जिन निवेशकों को ज्यादा रिटर्न के लिए जोखिम से परहेज नहीं है। तो वह इक्विटी में ज्यादा निवेश करें।  इक्विटी बाजार के उतार-चढ़ाव का जोखिम लेते हैं। जिसके लिए एक्सिस फोक्स्ड 25 फंड, कोटक स्टैंडर्ड मल्टीकैप, एचडीएफसी स्मॉलकैप फंड और इन्वेस्को कॉन्ट्रा फंड में निवेश करने की सलाह होगी।


वहीं जो निवेशक संतुलित निवेश चाहते है और जोखिम उठाने से डरते है वे निवेशक इक्विटी और डेट दोनों में निवेश करें। ध्यान रहें इक्विटी से ज्यादा डेट में निवेश करें। जिसके लिए आप रिलायंस हाइब्रिड इक्विटी फंड, आईसीआईसीआई प्रु बैलेंस्ड एडवांटेज फंड और कोटक इक्विटी सेविंग फंड में निवेश कर सकते है।


जो निवेशक, निवेश के साथ बिल्कुल जोखिम नहीं ले सकते है और निवेश में नए विकल्प चुनने में परहेज करते है। वे निवेशक एफडी और बॉन्ड में निवेश ज्यादा करें। एफडी और बॉन्ड में निवेश के लिए फ्रैंकलिन शॉर्ट-टर्म इनकम प्लान, आईसीआईसीआई प्रु क्रेडिट रिस्क फंड और कोटक बॉन्ड शॉर्ट टर्म में निवेश करें। 3 साल के लिए एफएमपी है।