Moneycontrol » समाचार » निवेश

बप्पा देगें मुनाफे का शगुन, जानिए श्रीगणेश से जुड़े क्या है निवेश के मंत्र

श्रीगणेश से जुड़े निवेश के मंत्रों से इन सूत्रों को आजमाकर आप अपने पोर्टफोलियो में धन-धान्य की बौछार कर सकते हैं।
अपडेटेड Sep 01, 2019 पर 16:44  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

भगवान गणेश को ज्ञान, बुद्धि और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। भगवान गणेश को गजानन, गजदंत, गजमुख जैसे नामों से भी जाना जाता है। हर साल गणेश चतुर्थी का पर्व भगवान गणेश के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। सभी देवताओं में प्रथम पूज्य, सभी कार्यों के शुभकारी, मंगलकारी। गणेश जी को बिध्नहर्ता और सुखकर्ता माना जाता है। इसलिए इस गणेश चतुर्थी में हम इस खास पेशकश के जरिए आपको निवेश में मुनाफे के गणेश मंत्र देंगे। ताकि आपका जीवन सुखमय और समृद्धी से भरपूर हो। योर मनी में हमारे साथ मौजूद हैं Morningstar के Investment Advisory Director - Dhaval Kapadia।


भगवान श्रीगणेश के शरीर का हर अंग बहुत ही विचित्र है जैसे- हाथी के समान मुख, सूंड, बड़े-बड़े कान, छोटी-छोटी आंखें, बड़ा पेट। देखने में भले ही श्रीगणेश का स्वरूप विचित्र लगे, लेकिन श्रीगणेश से जुड़े निवेश के मंत्रों से इन सूत्रों को आजमाकर आप अपने पोर्टफोलियो में धन-धान्य की बौछार कर सकते हैं।


गणपति देंगे निवेश सूत्र


गजकर्णः गणेश जी के बड़े कान


कहावत है कि भक्तों की मनोकामना सुनने के लिए गणेश जी के बड़े कान होते है। गणेश जी की इस प्रतिभा को निवेश सूत्र से जोड़े तो गणेश के बड़े कान से निवेशक को सदैव सजग रहने की सीख लेनी चाहिए। निवेशक बाजार की हर गतिविधि से खुद को अपडेट रखना चाहिए। 


गजानन: गणेश जी का बड़ा सिर


गणेश जी का बड़ा सिर निवेश में बड़ी सोच रखने की सीख देता है। निवेश में बड़ी सोच के साथ योजनाबद्ध रणनीति से सफलता मिलता है। लक्ष्यों को अवधि के मुताबिक तय करके स्ट्रेटेजी बनाने की सीख मिलती है।


चिंतेश्वर: गणेश जी की छोटी आंखें


गणेश जी की छोटी आंखें बताती है कि निवेश पर बारीकी से ध्यान रखना चाहिए। निवेश के हर विकल्प पर रिसर्च कर फैसला लेना चाहिए।


वक्रतुण्ड: गणेश जी की सूंड


गणेश जी की सूंड से धीरज रखने की सीख मिलती है। इसी तरह बाजार की चाल में उतार-चढ़ाव के दौरान धीरज रखें। उतार-चढ़ाव में भी बिना विचलित हुए सलीके से निवेश जारी रखें।


एकदन्त: गणेश जी का एक दांत


एकदन्त बताता है कि भावुक होकर निवेश रणनीति नहीं बनानी चाहिए। जीवन की तमाम मुसीबतों के बावजूद निवेश में विश्वास को बनाएं रखें। घाटा देने वाले निवेश को पोर्टफोलियो से बाहर करना चाहिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।