Moneycontrol » समाचार » निवेश

रिटायरमेंट के लिए इन 5 स्कीम्स में कर सकते हैं निवेश, जानिए फायदे

रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए हम आपको 5 बेहतर विकल्प बता रहे हैं, जहां आप निवेश कर सकते हैं
अपडेटेड Jul 03, 2020 पर 10:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आजकल के इस अर्थयुग में पैसों की काफी अहमियत होती है। बुढापे में खासतौर से जब आप कुछ कर नहीं सकते हैं तब आपको पैसे की चिंता अधिक होती है। वहीं कुछ सरकारी नौकरियों को छोड़कर कई पेंशन भी बंद हो गई है। प्राइवेट कर्मचारियों को तो रिटायरमेंट फंड के लिए खुद ही निवेश करना होता है। ऐसे में हम आपको कुछ नाम बताएंगे जहां निवेश करना बेहतर साबित हो सकता है।


स्वैच्छिक भविष्य निधि (Voluntary Provident Fund)- Voluntary Provident Fund VPF में कर्मचारी अपनी सैलरी का चाहे जितना हिस्सा निवेश कर सकता है। जैसे EPF में बेसिक सैलरी का 12 फीसदी देना होता है, लेकिन VPF में ऐसा नहीं है। 


NPS - NPS एक सरकारी रिटायरमेंट सेविंग स्कीम है। इस स्कीम को केन्द्र सरकार ने 1 जनवरी 2004 को लॉन्च किया था। इसमें कोई भी भारत का नागरिक 18 से 65 साल की उम्र में निवेश कर सकता है। इस योजना में निवेश करने पर रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलती है। आप ज्यादा से ज्यादा 1.5 लाख रुपये का निवेश कर सकते हैं।


Public Provident Fund (पब्लिक प्रोविडेंट फंड) – इस फंड में भारत का कोई भी नागरिक निवेश कर सकता है। सरकार इसमें हर तिमाही इंट्रेस्ट रेट की घोषणा करती है। यानी हर तिमाही इसमें इंट्रेस्ट रेट बदलता रहता है। इसमें निवेशकों की जो भी आमदनी होती है वो टैक्स फ्री होती है।


इंश्योरेंस पेंशन प्लान (Insurance Pension Plans): -  इंश्योरेंस पेंशन प्लान ऐसे बनाए जाते हैं कि उसमें ग्राहकों को प्रीमियम भरना होता है। इसमें लॉन्ग पीरियड तक प्रीमियम भरना होता है। जब आपकी पॉलिसी मेच्योर हो जाएगी तो फिर आप मासिक पेंशऩ ले सकते हैं।


म्यूचुअल फंड्स (Mutual funds) – रिटायरमेंट का प्लान आप म्यूचुअल फंड के साथ भी कर सकते हैं। आप किसी भी प्लान में एक बार निवेश करने का विकल्प चुन सकते हैं। रिटायरमेंट प्लानिंग करने वालों के म्यूचुअल फंड बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।