Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनीः एनएफओ में क्या हो निवेश की रणनीति!

प्रकाशित Wed, 08, 2018 पर 12:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

हर कोई चाहता है कि उसकी जिंदगी में कोई पछतावा ना हो, लेकिन ऐसा होता नहीं है। ऐसे कई सपने होते हैं जिनका पूरा ना कर पाने का दुख होता है, जैसे शुरुआती दिनों में बेहिसाब खर्च करने से बचत नहीं कर पाना। या फिर भविष्य को लेकर लिए कुछ फैसले, जिनका असर लंबे समय तक देखने को मिलता है। जैसे अपने महंगे शौक के लिए लोन लेना। बुरा लगता है लेकिन अब बुरा मानकर क्या, कल में की गई गलतियों से कैसे सीखें, कैसे इन गलतियों को दोबारा ना दोहराएं। इसी बात पर होगी चर्चा और हमारा साथ देने के लिए मौजूद हैं विशफिन के सीईओ और को-फाउंडर ऋषि मेहरा।


ऋषि मेहरा का कहना है कि  निवेश में किए गलतियों से सीख लेना जरुरी है, लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं की आप निवेश के नाम से घबरा जाएं बल्कि पुरानी गलतियों को भुलाकर आगे बढ़ना ही निवेशक की पहचान है। जिसके लिए आपको घाटे में चल रहे निवेश को बदलना होगा। किसी से सलाह लेने से पहले सजानकारी हासिल जरुर करें। निवेश करने से पहले उससे जुड़े सवाल पूछें। उन्होंने आगे बताया कि निवेश में घाटा होने पर नए निवेश से डरे नहीं बल्कि निवेश को लेकर अपने स्वभाव को समझें ताकि नुकसान बढ़ने देने की बजाय आपको मदद मांगे। निवेश में सोच समझकर जोखिम उठाएं। जोखिम उठाने की क्षमता को पहचानें। गलतियों से सीखें और उसे दोहराए नहीं।


सवालः आईसीआईसीआई प्रु भारत कंज्पशन फंड-सीरिज 4 क्या है?
ये एनएफओ क्या है, और इसमें कैसे निवेश कर सकते है। एनएफओ में कितने दिन तक नए निवेशकों को निवेश करना चाहिए।


ऋषि मेहराः आईसीआईसीआई प्रु भारत कंज्पशन फंड-सीरिज 4 भारत कंजम्पशन क्लोज एंडेड इक्विटी फंड है और भारत कंजम्पशन थिमेटिक फंड है। ये फंड कंज्यूमर नॉन-ड्यूरेबल, कंज्यूमर ड्यूरेबल सेक्टर में निवेश करता है। साथ ही ऑटो, हेल्थकेयर सर्विसेज सेक्टर में निवेश करता है। 3.5 साल के निवेश का लक्ष्य रखें। आईसीआईसीआई को एनएफओ से अच्छी ग्रोथ की उम्मीद है। एनएफओ फंड में ज्यादा जोखिम होता है। निवेश के लिए पहली सलाह नहीं है। अच्छा पोर्टफोलियो रहने पर इसे जोड़ें रहें। नए निवेशक के लिए बैलेंस्ड एडवांटेज फंड ज्यादा अच्छा है।  लार्ज कैप से भी निवेश के शुरूआत की सलाह होगी। थीमेटिक फंड ज्यादा जोखिम के साथ आते है। निवेशक निवेश से पहले जोखिम उठाने की क्षमता को पहचाने उसके बाद ऑनलाइन और ऑफलाइन फंड को खरीद सकते हैं। क्लोज एंडेड फंड होने से एसआईपी का विकल्प नहीं है।