Moneycontrol » समाचार » आईपीओ खबरें

GoAir इश्यू से जुटाए फंड का इस्तेमाल कर्ज घटाने और एक्सपैंशन में करेगी

एयरलाइन की योजना IPO से 3,600 करोड़ रुपये जुटाने की है। गोएयर का मार्केट शेयर कई वर्षों से स्थिर बना हुआ है
अपडेटेड May 14, 2021 पर 18:13  |  स्रोत : Moneycontrol.com

वाडिया ग्रुप की एयरलाइन गोएयर ने कई मुश्किलों का सामना करने के बाद शेयर मार्केट में लिस्टिंग के लिए दस्तावेज दाखिल किए हैं। इससे पहले भी गोएयर ने इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) लाने की योजना बनाई थी लेकिन वह पूरी नहीं हो सकी थी। कंपनी ऐसे समय में लिस्टिंग कराने की कोशिश कर रही है जब एविएशन इंडस्ट्री के लिए चुनौतियां बढ़ रही हैं। एयरलाइन ने अपनी गो फर्स्ट के जरिए अपनी रिब्रांडिंग करने का कदम भी उठाया है।


देश की सभी एयरलाइंस की तरह गोएयर को भी महामारी से नुकसान हुआ है। देश की सबसे बड़ी एयरलाइन, इंडिगो का कहना है कि उसने विमानों की लीज पेमेंट पर डिफॉल्ट नहीं किया है लेकिन गोएयर अपने कई लीज एग्रीमेंट्स पर डिफॉल्ट कर चुकी है। इससे कंपनी के खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी हो सकती है।


फंड का इस्तेमाल


गोएयर की योजना नए शेयर्स जारी कर 3,600 करोड़ रुपये जुटाने की है। इसमें से 2,015 करोड़ रुपये या 56 प्रतिशत का इस्तेमाल कंपनी पर कर्ज का समय से पहले या निर्धारित अवधि पर भुगतान करने की योजना है। इसके अलावा यह अपनी कुछ बकाया रकम चुकाने के लिए भी खर्च करेगी। इसमें इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के 254 करोड़ रुपये शामिल हैं। इसके बाद एयरलाइन के पास एक्सपैंशन और अन्य कंपनी की अन्य जरूरतों के लिए 1,000 करोड़ रुपये से कुछ अधिक बचेंगे।


कंपनी पर अभी कुल कर्ज 2,900 करोड़ रुपये से अधिक का है। इसे चुकाने से आने वाले वर्षों में वित्तीय बोझ को कम करने में मदद मिलेगी। पिछले वर्ष इसकी फाइनेंस कॉस्ट 850 करोड़ रुपये से अधिक थी और यह पिछले कुछ वर्षों में बढ़ी है।


एंसिलरी रेवेन्यू के लिहाज से इंडिगो और स्पाइसजेट की तुलना में गोएयर पीछे है लेकिन इसकी ऑपरेटिंग कॉस्ट प्रतिद्वंद्वी एयरलाइंस से कम है और मेंटेनेंस कॉस्ट इंडिगो के बराबर है।


गोएयर का मार्केट शेयर कई वर्षों से स्थिर है और यह 10 पर्सेंट से अधिक नहीं गया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।