Moneycontrol » समाचार » आईपीओ

Rolex Rings IPO: इश्यू 130.44 गुना सब्सक्राइब हुआ, रिटेल पोर्शन 24.49 गुना भरा, जानिए क्या चल रहा है GMP

Rolex Rings IPO: नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स के लिए रिजर्व हिस्से में 360.10 गुना बोली लगी
अपडेटेड Aug 09, 2021 पर 09:52  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Rolex Rings IPO: ऑटो पार्ट्स बनाने वाली इस कंपनी का इश्यू तीसरे दिन अब तक 130.44 गुना सब्सक्राइब हुआ है। आज कंपनी के इश्यू का आखिरी दिन था। Rolex Rings ने इश्यू के तहत 56.85 लाख इक्विटी शेयर जारी किए थे जिसके लिए अब तक 74.16 करोड़ बोली लग चुकी है।


Rolex Rings के इश्यू में क्वालीफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स के लिए रिजर्व पोर्शन 143.58 फीसदी सब्सक्राइब हुआ है। जबकि नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (NII) के लिए रिजर्व हिस्से में 360.10 गुना बोली लगी है। वहीं रिटेल इनवेस्टर्स के लिए रिजर्व पोर्शन में 24.49 गुना सब्सक्रिप्शन हुआ है।


IIFL सिक्योरिटीज के डायरेक्टर संजीव भसीन की पावर सेक्टर की कमाई वाली पिक्स

Rolex Rings ने 731 करोड़ रुपए जुटाने के लिए इश्यू जारी किया था। इसमें 56 करोड़ रुपए का फ्रेश इश्यू और 675 करोड़ रुपए का ऑफर फॉर सेल है। फ्रेश इश्यू से जुटाए गए फंड का इस्तेमाल कंपनी अपने कामकाज की जरूरतों के लिए करेगी।


क्या चल रहा है ग्रे मार्केट प्रीमियम (GMP)


कंपनी का इश्यू 28 जुलाई को खुला था। उसके बाद से ही इसके GMP में लगातार तेजी बनी हुई है। पिछले तीन दिनों में Rolex Rings के IPO का GMP (ग्रे मार्केट प्रीमियम) 450 रुपए से बढ़कर 555 रुपए पहुंच गया है। कंपनी के इश्यू का प्राइस बैंड 900 रुपए है। इस हिसाब से देखें तो  555 रुपए ग्रे मार्केट प्रीमियम के साथ Rolex Rings के इश्यू 1455 रुपए (900+555) पर लिस्ट हो सकते हैं। यह इश्यू प्राइस के मुकाबले 50-60 फीसदी प्रीमियम पर हो सकती है।


इंस्टॉल्ड कैपेसिटी के लिहाज से Rolex Rings भारत की टॉप 5 फोर्जिंग कंपनियों में से एक है। मिंट के मुताबिक, unlistedArena.com के फाउंडर अभय दोषी कंपनी की ग्रोथ कमजोर है क्योंकि फिस्कल ईयर 2020-21 में कंपनी की आमदनी 61.63 करोड़ रुपए रहा। इससे पहले फिस्कल ईयर 2019 में कंपनी की आमदनी 90.43 करोड़ रुपए है।


इक्विरश कैपिटल प्राइवेट लिमिटेड, IDBI कैपिटल लिमिटेड इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं। Link Intime इश्यू की रजिस्ट्रार कंपनी है।


इश्यू का 50 फीसदी क्वालीफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (QIB), 35 फीसदी रिटेल इनवेस्टर्स और बाकी के 15 फीसदी नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स के लिए रिजर्व है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।