Moneycontrol » समाचार » आईपीओ

IPO को लेकर ग्रे मार्केट में कैसी है हलचल, जानिए क्या है SBI CARDS के IPO पर ब्रोकरेज की राय

IPO 2 मार्च (सोमवार) को खुलेगा और 5 मार्च (गुरूवार) को बंद होगा।
अपडेटेड Feb 28, 2020 पर 09:06  |  स्रोत : CNBC-TV18

काफी लम्बे समय के बाद एसबीआई जैसी बैंक का आईपीओ आ रहा है, जिस से ग्रे मार्किट में हलचल शुरू हुई थी। लेकिन पिछले 3 दिनों में अंतर्राष्ट्रीय  हालत के चलते भारतीय बाजारों में भी गिरावट आई है जिसके चलते ग्रे मार्किट में सौदे भी कम हो रहे है और फॉर्म पर मिल रहे प्रीमियम में भी गिरावट आई है।


पहले 4200 से 4600 रुपये तक प्रति फॉर्म का भाव हो गया था। प्रति शेयर का सौदा 330 से 340 रुपये में हो रहा था। आज फॉर्म का भाव 3700 से 4000 रुपये तक हो गया है। प्रति शेयर के सौदे 300 रुपये के हिसाब से हो रहे हैं। पिछले तीन दिनों में फॉर्म के सौदे भी 30 प्रतिशत कम हुए हैं। बाजार की गिरावट का सीधा असर इस आईपीओ पर दिख रहा है।


SBI कार्ड्स का IPO 2 मार्च को खुलेगा। क्रेडिट कार्ड जारी करने के मामले में HDFC बैंक के बाद SBI कार्ड्स दूसरे नंबर पर है। कंपनी के IPO को लेकर बाजार में खासा उत्साह है। कंपनी की STRONG PARENTAGE और कारोबार को देखते हुए इश्यू को अच्छे रिस्पॉन्स की उम्मीद की जा रही है। अब सवाल ये कि क्या निवेशकों को इस IPO में पैसा लगाना चाहिए। अगले आधे घंटे में आपको इसी सवाल का जवाब मिलेगा। हम इस IPO को कारोबार, वित्तीय स्थिति, ग्रोथ की संभावनाओं जैसे मानकों पर कसेंगे और एक्सपर्ट से समझेंगे कि SBI का ये ट्रंप कार्ड आपकी उम्मीदों पर खरा उतरेगा या नहीं। इस चर्चा में सीएनबीसी-आवाज़ के साथ हैं Arihant Capital के Director आशीष माहेश्वरी और SMC Global के Banking Analyst सिद्धार्थ पुरोहित जुड़़ गये हैं।


SBI CARDS और भुगतान सेवाएं


IPO 2 मार्च (सोमवार) को खुलेगा और 5 मार्च (गुरूवार) को बंद होगा। इसका प्राइस बैंड 750 से 755 रुपये प्रति शेयर है। इसका लॉट साइज 19 शेयर का है और अधिकतम 13 लॉट लिया जा सकता है। इसके प्रोमोटर SBI है। बता दें कि SBI Cards देश में क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है जिसका मुख्यालय गुरुग्राम में है। SBI कार्ड के एंप्लॉयीज को 75 रुपये प्रति शेयर का डिस्काउंट दिया गया है। SBI शेयरधारकों के लिए 1.3 करोड़ शेयर रिजर्व हैं। हालांकि रिटेल के लिए UPI के लिए अप्लाई करना अनिवार्य होगा। आईपीओ के पहले इसमें SBI की 74 प्रतिशत हिस्सेदारी है जो कि आईपीओ के बाद 70 प्रतिशत हो जायेगी। वहीं आईपीओ के पहले इसमें Carlyle की 26 प्रतिशत हिस्सेदारी है जो कि आईपीओ के बाद 16 प्रतिशत हो जायेगी। कंपनी की इस इश्यू के जरिए 10355 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है।


विभिन्न CREDIT CARDS की बाजार हिस्सेदारी इस प्रकार है


HDFC Bank             27 प्रतिशत


SBI Card                18 प्रतिशत


ICICI Bank              14 प्रतिशत


Axis Bank               13 प्रतिशत


Others                   28 प्रतिशत


SBI CARDS आईपीओ पर दिग्गजों की राय इस प्रकार है


MOTILAL OSWAL                    सब्सक्राइब


SAMCO SECURITIES              सब्सक्राइब


BP WEALTH                           सब्सक्राइब


ARIHANT CAPITAL                 सब्सक्राइब


SMC GLOBAL                         सब्सक्राइब


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।