Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ऑप्शंस में अतिरिक्त मार्जिन, सितंबर एक्सपायरी से लागू

प्रकाशित Fri, 14, 2018 पर 11:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इस महीने की एक्सपायरी से एफएंडओ मार्जिन में एक और बदलाव होने जा रहा है। अगर आप फिजिकल डिलिवरी वाले 45 शेयरों में ऑप्शंस लॉन्ग करते हैं, यानी खरीदते हैं तो आपकी मार्जिन ब्लॉक होगी।


सितंबर एक्सपायरी से फिजिकल डिलिवरी वाले 45 शेयरों पर ऑप्शंस में अतिरिक्त मार्जिन लागू होगा। लॉन्ग सौदों में एक्सपायरी से 4 दिन पहले मार्जिन ब्लॉक होगी। लॉन्ग कॉल और पुट दोनों में मार्जिन ब्लॉक होगी। फिजिकल डिलिवरी सुनिश्चित करने के लिए मार्जिन देना होगा।


एक्सपायरी पर लॉन्ग ऑप्शंस के तहत 4 दिन पहले वैल्यू एट रिस्क का 20 फीसदी और एक्स्ट्रीम लॉस मार्जिन देना होगा। 3 दिन पहले वैल्यू एट रिस्क का 40 फीसदी और एक्स्ट्रीम लॉस मार्जिन देना होगा। 2 दिन पहले वैल्यू एट रिस्क का 60 फीसदी और एक्स्ट्रीम लॉस मार्जिन देना होगा। 1 दिन पहले वैल्यू एट रिस्क का 80 फीसदी और एक्स्ट्रीम लॉस मार्जिन देना होगा।