Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ड्रोन के बढ़ते हमले से एजेंसियां सतर्क, एंटी ड्रोन तकनीकी का ब्लूप्रिंट तैयार

सरकार की ड्रोन जैमर लगाने की तैयारी है। स्काई फेंस और ड्रोन गन पर भी काम चल रहा है।
अपडेटेड Oct 04, 2019 पर 09:24  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ड्रोन के हजार फायदे हैं, लेकिन दुश्मन भी ड्रोन का इस्तेमाल कर सकता है। इसलिए अब सुरक्षा एजेंसियां ऐसी तकनीकी पर काम कर रही हैं जो ना सिर्फ संदिग्ध ड्रोन पर नजर रखेगी बल्कि समय रहते उन्हें नाकाम भी कर देगी। CISF, ATC, DGCA ड्रोन पर निगरानी रखेंगी। इसके अलावा एयरफोर्स और स्थानीय पुलिस भी ड्रोन की निगरानी करेंगी। कई एयरपोर्ट्स पर एंटी ड्रोन तकनीक पर काम चल रहा है।


सरकार की ड्रोन जैमर लगाने की तैयारी है। स्काई फेंस और ड्रोन गन पर भी काम चल रहा है। ड्रोन कैचर, स्काईवॉल 100 जैसी तकनीक पर भी काम चालू है। ड्रोन के खतरे को ध्यान में रखते हुए न्यूक्लियर एवं स्पेस संस्थान पर खास निगरानी रखी जा रही है।
पावर प्लांट और सरकारी भवनों की निगरानी भी निगरानी की जा रही है। पंजाब में ड्रोन से हथियार गिरने से सतर्कता बढ़ी है।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।