Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जानिए क्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड

प्रकाशित Thu, 13, 2019 पर 09:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अगर आप गोल्ड में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं तो आरबीआई की सलाह पर भारत सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) स्कीम 2019-20 लॉन्च कर दी है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) योजना निवेशकों के लिए इस साल चार सीरीज में पेश की जाएगी। इस बार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) हर महीने जून 2019 से सितंबर 2019 तक जारी किए जाएंगे।
आइये जानते सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के बारे में विस्तार से


कहां से खरीदें सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB):- 


सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करने के लिए आपको सिड्यूल्ड कमर्शिय बैंक, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (SHCIL), कुछ चुनिंदा डाकघरों, बीएसई, एनएसई के जरिए कर सकते हैं।



सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में कौन कर सकते हैं निवेश
इस स्कीम के तहत हिंदू अविभाजित परिवार, ट्रस्ट, विश्वविद्यालय या चैरिटेबल संस्था निवेश कर सकते हैं। निवेशकों को एक होल्डिंग सार्टिफिकेट जारी किया जाएगा और बॉन्ड डीमैट फॉर्म क रूप में मान्य होंगे।


मेच्योरिटी पीरियड
बॉन्ड की अवधि 8 साल की होगी और 5 वें साल में आपके पास बाहर निकलने का विकल्प होगा। जिसका प्रयोग ब्याज तय तारीखों पर किया जा सकेगा।  इसका भुगतान चेक या इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग के जरिए होगा।


सॉवरेन स्वर्ण बॉन्ड के बिक्री की तारीख
रिजर्व बैंक चार सीरीज में सॉवरेन स्वर्ण बॉन्ड योजना पेश करेगा। इनमें सबसे पहले सीरीज-1 के सॉवरेन स्वर्ण बॉन्ड आगामी 11 जून 2019 को जारी किए जाएंगे। इसके तहत अभिदान 3 से 7 जून के बीच किया जा सकेगा। इसी तरह अंतिम सॉवरेन स्वर्ण बॉन्ड 17 सितंबर 2019 को जारी होंगे। सॉवरेन स्वर्ण बॉन्ड योजना निम्न तारीखों के मुताबिक जारी किए जाएंगे।


निवेश की सीमा
गोल्ड बॉन्ड में निवेश करनेकी सीमा कम से कम एक ग्राम है और अधिक से अधिक 4 किलोग्राम तक इनवेस्टमेंट कर सकते हैं। एक ग्राम सोने का एक यूनिट माना जाएगा। ट्रस्ट और अन्य संस्थान अधिकतम 20 किलोग्राम तक निवेश कर सकते हैं।


मूल्य (प्राइस)
रजिस्ट्रेशन से पहले भारतीय बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन (IBJA) द्वारा 999 प्योरिटी (शुद्धता) वाले सोने की साधारण कीमत के आधार पर बॉन्ड की कीमत तय की जाएगी। यही नहीं, गोल्ड बॉन्ड्स का निर्गम मूल्य उन लोगों के लिए 50 रुपये प्रति ग्राम कम होगा जो ऑनलाइन सदस्यता लेते हैं और डिजिटल मोड के माध्यम से पेमेंट करते हैं। 


पेमेंट
गोल्ड बॉन्ड में निवेश के पेमेंट करने के लिए आप नकद, डिमांड ड्राफ्ट, चेक या नेट बैंकिंग के जरिए कर सकते हैं।


इंट्रेस्ट रेट ( ब्याज दर)
निवेशकों को हर साल 2.50 फीसदी की एक निश्चित दर लागू होगी।


इन दस्तावेजों की होगी जरूररत 
इस योजना में निवेश के लिए केवाईसी के नियमों का पालन करना होता है। जो वास्तविक सोने की खरीद के लिए होते हैं। केवाईसी दस्तावेज जैसे मतदाता कार्ड, आधार कार्ड/पैन या टैन/पासपोर्ट जरूरी होंगे। हर आवेदन के साथ आयकर विभाग द्वारा जारी निवेशक/ निवेशकों का पैन नंबर होना चाहिए।


 
गोल्ड बॉन्ड में टैक्स
गोल्ड बॉन्ड पर ब्याज इनकम टैक्स कानून को तहत होगा। हालांकि किसी व्यक्ति को गोल्ड बांड को भुनाने पर उत्पन्न होने वाले पूंजीगत लाभ कर में छूट दी गई है। बांड के हस्तांतरण पर किसी भी व्यक्ति को होने वाले दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ के लिए सूचकांक लाभ प्रदान किया जाएगा।


 ट्रेडबिलिटी ( परंपरा)
आरबीआई क नोटिफिकेशन के मुताबिक, बॉन्ड जारी होने के एक पखवाड़े (फोर्टनाइट) के भीतर बॉन्ड एक्सचेंजों पर ट्रेडबल हो जाएगा।