Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

अमित शाह ने की दिल्ली में COVID-19 स्थिति पर सर्व-पक्षीय बैठक

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि इस बैठक में शाह ने दिल्ली के चार प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं को कोरोनोवायरस महामारी की उपाय योजना के तहत उठाये गये कदमों से अवगत कराया और इस मुद्दे पर उनसे विचार मांगे।
अपडेटेड Jun 15, 2020 पर 18:36  |  स्रोत : Moneycontrol.com

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के सभी राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ नोवेल कोरोनोवायरस स्थिति के बारे में चर्चा करने के लिए सोमवार को बैठक की। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार यह बैठक दिल्ली में बढ़ते नोवेल कोरोनोवायरस मामलों के मद्देनजर आयोजित की गई थी।


गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि इस बैठक में शाह ने दिल्ली के चार प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं को कोरोनोवायरस महामारी की उपाय योजना के तहत उठाये गये कदमों से अवगत कराया और इस मुद्दे पर उनसे विचार मांगे। इस बैठक में भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और बीएसपी के नेता शामिल हुए।


दिल्ली में 41,000 से अधिक लोग कोरोनावायरस बीमारी (COVID-19) से संक्रमित थे और इसने अब तक 1,300 से अधिक लोगों की जान ली है। देश में महाराष्ट्र और तमिलनाडु के बाद दिल्ली में COVID-19 मामलों की संख्या सबसे अधिक है।


रविवार को गृह मंत्री ने दिल्ली के राज्यपाल लेफ्टिनेंट अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन, दिल्ली के तीन नगर निगमों के महापौर और आयुक्त के साथ कोरोनावायरस से लड़ने की रणनीति को मजबूत बनाने के लिए दो उच्च स्तरीय बैठकें की थी।


शाह ने घोषणा की थी कि अगले दो दिनों में दिल्ली में COVID-19 का परीक्षण दोगुना हो जाएगा और बाद में तीन गुना हो जाएगा।


बैठक के बाद उपाय योजनाओं के बारे में घोषणा करते हुए शाह ने कहा कि कन्टेनमेंट जोन में हर मतदान केंद्र पर COVID-19 का परीक्षण शुरू किया जायेगा और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के लिए हॉटस्पॉट्स इलाकों में घर-घर एक व्यापक स्वास्थ्य सर्वेक्षण किया जाएगा।


दिल्ली में कोरोनोवायरस रोगियों के लिए बेड की कमी को देखते हुए मोदी सरकार ने 500 रेलवे कोच उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है, जो सभी सुविधाओं के साथ सुसज्जित होंगे ऐसा शाह ने कहा।


उन्होंने आगे कहा कि इलाज की न्यूनतम दर पर निजी अस्पतालों के 60 प्रतिशत बेड की उपलब्धता सुनिश्चित करने और टेस्टिंग और इलाज की दर तय करने के लिए नीति आयोग (NITI Aayog) के सदस्य वी के पॉल की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।