Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

मुंबई में आरे बचाओ आंदोलन को झटका, आरे को जंगल मानने से इनकार

बॉम्बे हाईकोर्ट ने 2500 पेड़ों की रक्षा के लिए दायर की गईं सभी याचिकाएं खारिज कर दीं।
अपडेटेड Oct 04, 2019 पर 17:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मुंबई में आरे जंगल बचाने के संघर्ष को हाईकोर्ट से झटका लगा है। बॉम्बे हाईकोर्ट ने 2500 पेड़ों की रक्षा के लिए दायर की गईं सभी याचिकाएं खारिज कर दीं। कोर्ट ने आरे के पेड़ों को जंगल करार देने से मना कर दिया है। आरे में मुंबई मेट्रो का कार शेड बनाने के लिए ढाई हजार से ज्यादा पेड़ काटे जा रहे हैं। पर्यावरण कार्यकर्ताओं, बॉलीवुड की नामी हस्तियों और स्थानीय लोगों ने इस ग्रीन एरिया को बचाने के लिए तमाम प्रयास किए जिनमें से कोर्ट का दरवाजा खटखटाना भी शामिल है।


कोर्ट में महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि आरे के पेड़ों को सिर्फ हरियाली की वजह से जंगल घोषित नहीं किया जा सकता। वहीं मुंबई मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने मेट्रो कार शेड को शहर के लिए जरूरी बताया और कहा कि लोकल में रोजाना औसतन 10 लोगों की मौत हो जाती है। मेट्रो बनने से लोकल पर बोझ घटेगा। वहीं कोर्ट के फैसले पर जंगल की रक्षा में लगे लोगों ने निराशा जताई है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।