Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

असम NRC की फाइनल लिस्ट जारी, 19 लाख लोग लिस्ट से बाहर

एनआरसी की ये फाइनल लिस्ट 31 जुलाई को प्रकाशित होनी थी लेकिन राज्य में बाढ़ के कारण एनआरसी अथॉरिटी ने इसे 31 अगस्त तक के लिए बढ़ा दिया था।
अपडेटेड Sep 01, 2019 पर 15:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

असम NRC की फाइनल लिस्ट जारी हो गई है। लिस्ट में 3 करोड़ 11 लाख लोगों को शामिल किया गया है। वहीं 19 लाख लोग इस लिस्ट से बाहर हैं। इनमें वो लोग भी शामिल हैं जिन्होंने अपने दावे नहीं प्रस्तुत किए थे। गृह मंत्रालय की तरफ से ये लिस्ट जारी की गई है।


आपको बता दें कि साल 2013 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर असम में NRC की प्रक्रिया शुरू की गई थी। सुप्रीम कोर्ट की मॉनटरिंग और दबाव में ही ये प्रक्रिया पूरी हुई है। असम में पूर्वी पाकिस्तान और बाद में बांग्लादेश के लोगों के अवैध घुसपैठ की समस्या से निपटने के लिए 1951 में ही नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स बनाया गया था। लेकिन अलग-अलग वजहों से ये काम कभी पूरा नहीं हो पाया।


इस पूरे मुद्दे में धार्मिक एंगल होने की वजह से भी ये काफी विवादास्पद रहा। यही वजह है कि NRC लिस्ट आने से पहले ही अप्रिय घटना से बचने के लिए असम के 12 जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है। इधर NRC लिस्ट जारी होते ही असम में NRC सेवा केंद्रों पर लोगों का जुटना शुरू हो गया है। लोग NRC लिस्ट में जल्दी से जल्दी अपना नाम देख लेना चाहते हैं।


असम NRC की लिस्ट जारी


- असम में रहने वाले भारतीय नागरिकों की लिस्ट जारी
- असम में रहने वाले 19,06,657 लोगों को नहीं मिली जगह
- लिस्ट से बाहर लोगों को विदेशी घोषित कर सकता है फॉरेन ट्रिब्यूनल
- माइग्रेंट्स की पहचान करना है NRC का मकसद


लिस्ट में चेक करें अपना नाम


- NRC की वेबसाइट nrcassam.nic.in पर जाएं
- होम पेज पर Supplementary list of inclusions/exclusions status(final NRC) दिखेगा, उस पर क्लिक करें
- जो पेज खुलेगा वहां अपना ARN नंबर, Captcha डालकर सर्च करें
- आवेदक अपना नाम NRC सेवा केंद्र (NSK) पर जाकर भी चेक कर सकते हैं


NRC में नाम नहीं, क्या है विकल्प?


- फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल (FT) में नागरिकता साबित करने का मौका
- अपील के लिए 60 के बजाय 120 दिन का वक्त
- FT में केस हारने पर HC और फिर SC में अपील कर सकते हैं
- कानूनी प्रक्रिया पूरी होने तक किसी को हिरासत में नहीं लिया जाएगा



NRC में नाम नहीं, अब क्या होगा?


- फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल ही किसी व्यक्ति को विदेशी घोषित कर सकता है
- NRC में नाम नहीं होने भर से व्यक्ति विदेशी घोषित नहीं होगा
- कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद घोषित विदेशियों को हिरासत केंद्र भेजा जाएगा।


बता दें कि एनआरसी की ये फाइनल लिस्ट 31 जुलाई को प्रकाशित होनी थी लेकिन राज्य में बाढ़ के कारण एनआरसी अथॉरिटी ने इसे 31 अगस्त तक के लिए बढ़ा दिया था।


कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने NRC की आखिरी लिस्ट जारी होने पर कहा कि जो देश का जेनुइन नागरिक है, उसका नाम लिस्ट में शामिल होना चाहिए, देश में मूल नागरिकों की सुरक्षा होनी चाहिए।


इधर AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने NRC को खोदा पहाड़ निकली चुहिया बताया है। उन्होंने NRC की लिस्ट पर सवाल उठाते हुए कहा कि इन लोगों को सरकार अब कहां रखेगी?


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।