Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Babri Masjid case: वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए चलेगी सीबीआई कोर्ट की कार्रवाई

इस मामले में भाजपा के दिग्गज नेताओं के खिलाफ ट्रायल चल रहा है।
अपडेटेड May 17, 2020 पर 08:53  |  स्रोत : Moneycontrol.com

स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने शुक्रवार को निर्णय लिया है कि वह 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले की सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए जारी रखेगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 8 मई को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट को इस मामले की सुनवाई प्रक्रिया 31 अगस्त तक पूरे करने के निर्देश दिए थे।


सीबीआई कोर्ट में बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई 20 अप्रैल तक पूरी हो जानी थी लेकिन कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन के चलते ऐसा संभव नहीं हो पाया।


बता दें कि इस मामले में भाजपा के दिग्गज नेताओं लालकृष्ण अडवानी, एमएम जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह और अन्य के खिलाफ ट्रायल चल रहा है। इन नेताओं के खिलाफ इस मामले में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में साजिश करने के आरोप की सुनवाई हो रही है।


कोर्ट ने सीबीआई द्वारा केस किए गए सभी प्रॉसीक्यूशन विटनेस के बयान दर्ज कर लिए हैं। इस बीच डिफेंस पक्ष ने शुक्रवार को एक एप्लीकेशन दाखिल की है जिसमें तीन प्रॉसीक्यूशन विटनेस को क्रॉस एग्जामिनेशन के लिए बुलाने की अपील की गई है। इस आवेदन में कहा है कि इन विटनेस को पहले  क्रॉस एग्जामिन नहीं किया गया है इसलिए इनको क्रॉस एग्जामिन किया जाये।


इस आवेदन को स्वीकार करते हुए मामले की सुनवाई कर रहे स्पेशल जज एसके यादव ने डिफेंस पक्ष को कहा है कि वह अपने उन प्रश्नों की सूचि तैयार कर ले जिनपर वह प्रॉसीक्यूशन विटनेस को क्रॉस एग्जामिन करना चाहता है। इस मामले की अगली सुनवाई 18 मई को होगी। 


बता दें कि बाबरी मस्जिद विध्वंस 1992 में हुआ था जब उन्मादियों की एक भीड़ ने बाबरी मस्जिद ढ़हा दी थी। बाबरी  मस्जिद विध्वंस मामला लखनऊ के स्पेशल कोर्ट में चल रहा है। बाबरी  मस्जिद विध्वंस के बाद अयोध्या में 2 मुकदमें दर्ज किए थे। एक मुकदमा मस्जिद गिराने की साजिश रचने का था जबकि दूसरा मामला मस्जिद गिराने के लिए भीड़ को उकसाने का था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें