Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बैंकिंग फ्रॉड पर कसी जाएगी नकेल, जानिए ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन में कौन से जुड़ेंगे नए फीचर

ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन को और सुरक्षित बनाया जाएगा।
अपडेटेड Feb 20, 2020 पर 09:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन को और सुरक्षित बनाया जाएगा। ट्रांजैक्शन प्रोसेस में OTP के साथ फेशियल रिकॉगनिशन और लोकेशन जैसे सिक्योरिटी फीचर भी जोड़े जाएंगे। RBI इस प्रस्ताव पर विचार कर रहा है।


ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन में नए फीचर जुड़ेंगे। OTP के साथ फेशियल रिकॉगनिशन, लोकेशन भी जोड़े जाएंगे। इन फीचर के बाद ही ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पूरी होगी। फेस, आइरिस और लोकेशन जैसे सिक्योरिटी फीचर भी शामिल किए जायेगे।


बता दें कि अभी टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल होता है। 3D पिन और OTP से ट्रांजैक्शन पूरी होती है। पिछले साल बैंकिंग फ्रॉड से 71,543 करोड़ रुपये का चूना लगा था जबकि पिछली तीन तिमाही में 8,926 फ्रॉड के मामले सामने आए थे।


ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड के चलते 18 सरकारी बैंकों से करीब 1.17 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। डिजिटल लेन देन 13% की दर से सालाना बढ़ रहा है जबकि मोबाइल वॉलेट में करीब 53% बढ़ोत्तरी की उम्मीद है। ऐसे में आरबीआई ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड पर सख्त बनाने का विचार कर रही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।