Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

स्टार्टअप्स के लिए काम करने वाले स्टार्टअप betterplace की कहानी

आज हम आपको दिखाते हैं स्टार्टअप्स के लिए काम करने वाला स्टार्टअप्स।
अपडेटेड Nov 01, 2019 पर 11:52  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज हम आपको दिखाते हैं स्टार्टअप्स के लिए काम करने वाला स्टार्टअप्स। B2B सेगमेंट में स्टार्टअप्स तो बहुत हैं लेकिन BETTERPLACE एक ऐसा स्टार्टअप है जो खास तौर पर स्टार्टअप्स को ध्यान में रखकर काम कर रहा है, वो भी एक ऐसे सेगमेंट में जहां अब तक ज्यादातर काम UNORGANISED तरीके से होता रहा है और वो सेगमेंट है BLUE COLLAR WORKERS।


देश के तेज़ी से बढ़ते स्टार्टअप ईको सिस्टम को जरूरत है efficient manpower की और इसी ज़रूरत को cater कर रही हैं Betterplace। Betterplace दरअसल एक B2B स्टार्टअप है जो blue collar workers को आज के स्टार्टअप की जरूरतों के लिए तैयार कर रहा है।


Betterplace दरअसल bluecollar workers की पूरी lifecycle को manage करती है और उन्हें अपने डिजिटल platform से जोड़ने के साथ, उन्हें ट्रेन भी करती हैं ताकि जॉब मार्केट के लिए वो तैयार हो सकें इसके लिए स्टार्टअप ने देश के कई स्किल सेंटर्स के साथ टाई अप भी किया है।


देश में blue collar वर्कफोर्स इंडस्ट्री करीब  36 से 40 बिलियन डॉलर की हैं और इस इंडस्ट्री में Betterplace सालाना 3 गुना ग्रोथ  हासिल कर रही हैं। 2016 में शुरू हुए इस स्टार्टअप की client लिस्ट में आज देश के कई बड़े स्टार्टअप शामिल हैं।


Betterplace गिग economy को formalise करके स्टार्टअप इकोसिस्टम को मजबूत तो कर ही रही है। साथ ही लेबर मार्केट के एक ऐसे सेगमेंट को भी EMPOWER कर रही हैं जो अब तक नेग्लेक्टेड था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।