Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

BREAKING- सेमीकंडक्टर की कमी से निपटने के लिए बनेगी टास्क फोर्स

सेमीकंडक्टर की कमी को लेकर आईटी मंत्रालय ने ग्लोबल कंपनियों के साथ मुलाकात की
अपडेटेड Oct 06, 2021 पर 16:16  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ऑटोमोबाइल सेक्टर पिछले काफी समय से चिप संकट से जूझ रहा है और इसी की कमी के चलते कंपनी कारों के प्रोडक्शन में भारी कमी लाने को मजबूर है। इससे आगामी फेस्टिव सीजन में काफी लोगों को कार खरीदने में दिक्कत आने की उम्मीद है। इन सब बातों पर ध्यान देते हुए सरकार ने सेमीकंडक्टर की किल्लत के संकट को दूर करने के प्रयास शुरू कर दिये हैं। इसी के तहत सरकार ने सेमीकंडक्टर की कमी से निपटने के लिए टास्क फोर्स बनाने का फैसला किया है।


सेमीकंडक्टर की कमी के संबंध में आईटी मंत्रालय ने ग्लोबल कंपनियों के साथ मुलाकात की। वहीं सरकार द्वारा बनाई गई टास्क फोर्स सेमी कंडक्टर की कमी से निपटने के लिए अपनी सिफारिशें देगी जिसके अनुसार आगे का प्लान ऑफ ऐक्शन तय होगा। ये सिफारिशें छोटी और लंबी अवधि पर आधारित होंगी। CNBC-Awaaz के सूत्रों के मुताबिक सेमीकंडक्टर यूनिट लगाने वाली कंपनियों को इंसेंटिव देने का रोड मैप तय होगा।


सेमीकंडक्टर की कमी से निपटने के लिए सरकार द्वारा लिये गये फैसले के तहत सरकार कई चरणों के अंदर कंपनियों को इंसेंटिव देगी। मिली जानकारी के मुताबिक अभी दो से तीन कंपनियों ने सेमीकंडक्टर यूनिट लगाने में रुचि दिखाई है। इसके अलावा टाटा ग्रुप ने भी सेमीकंडक्टर यूनिट लगाने में रुचि दिखाई है। इस खबर के बाद टाटा मोटर्स के स्टॉक में ऐक्शन नजर आया।


BREAKING NEWS- ऊर्जा मंत्री ने दिए REC, PFC को लागत रकम घटाने के निर्देश


बता दें कि सेमीकंडक्टर सिलिकन चिप है जिसका उपयोग गाड़ियों, कंप्यूटर, मोबाइल फोन और विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट्स में कंट्रोल एवं मेमोरी के लिए किया जाता है। हाल के दिनों में ब्लूटूथ कनेक्टिविटी और ड्राइवर असिस्ट जैसे नई इलेक्ट्रॉनिक फीचर्स की वजह से वाहन उद्योग में सेमीकंडक्टरों का उपयोग बढ़ा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।