Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन का ऐलान, फिर चल पड़ा कुम्हारों का चक्का

सिंगल यूज प्लास्टिक से बने सामान पर बैन के ऐलान के बाद कुम्हारों के अच्छे दिन वापस लौटते दिखाई दे रहे हैं।
अपडेटेड Sep 08, 2019 पर 15:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सिंगल यूज प्लास्टिक से बने सामान पर बैन के ऐलान के बाद कुम्हारों के अच्छे दिन वापस लौटते दिखाई दे रहे हैं। खासतौर पर कुल्हड़ की डिमांड डबल हो गई है। PM मोदी के प्लास्टिक फ्री अभियान से कुल्हड़ बनाने वाले कुम्हारों का धंधा फिर से चल पड़ा।


चाक की इस चाल में झज्जर के इंद्रपाल को मोटी कमाई नजर आने लगी है। इंग्लैंड, ब्राजील और इजरायल जैसे देशों में कुल्हड़ बनाने की ट्रेनिंग दे चुके इंद्रपाल अपने ही देश में कुल्हड़ की गुम होती पहचान से निराश थे। लेकिन जब से प्लास्टिक पर पाबंदी की खबर आई है इनके कुल्हड़ की मांग 50 फीसदी तक बढ़ गई है।


कुल्हड़ की बढ़ती मांग ने अकेले इंद्रपाल ही नहीं बल्कि झज्झर के करीब 400 परिवारों की जिंदगी में नया सवेरा ला दिया है। दरअसल, रेलवे ने खादी के जरिये 400 स्टेशन पर सिर्फ कुल्हड़ में चाय देने का फैसला लिया है। इसलिए खादी इन कुल्हड़ के सबसे बड़े खरीदार के तौर पर उभरा है।


कुल्हड़ की प्रोडक्शन को बढ़ावा देने के लिए खादी ने तो हाथ की बजाय बिजली से चलने वाले चाक भी कुम्हारों को मुफ्त में मुहैया करा रहा है। न सिर्फ रेलवे बल्कि पंजाब औप हरियाणा के दूसरे शहरों से कुल्हड़ की मांग आने लगी है। बढ़ती मांग को देखते हुए अब आकर्षक औऱ डिजाइनदार कुल्हड़ भी यहां कुम्हार तैयार करने लग गए हैं। अगर प्लास्टिक पर पाबंदी रंग लाई तो लाखों कुम्हारों के अच्छे दिन लौट आएंगे।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।