Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

चांद पर पहुंचते-पहुंचते रह गया चंद्रयान 2 का लैंडर विक्रम

चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का चांद पर उतरने से ठीक पहले ही संपर्क टूट गया।
अपडेटेड Sep 08, 2019 पर 11:36  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का चांद पर उतरने से ठीक पहले ही संपर्क टूट गया। रात एक बजकर 52 मिनट 54 सेकेंड पर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडर विक्रम को उतरना था। लेकिन चांद की सतह पर उतरने से ठीक पहले लैंडर विक्रम का संपर्क टूट गया। जिस वक्त लैंडर विक्रम का संपर्क टूटा उस वक्त वो चांद से महज 2.1 किलोमीटर की दूरी पर था। लैंडर का संपर्क टूटने के बाद बेंगलुरू स्थित इसरो सेंटर में सन्नाटा पसर गया। वहां मौजूद वैज्ञानिकों के चेहरों पर चिंता की लकीरें उभर आईं। इसके बाद खुद इसरो चीफ के. सिवन ने लैंडर से संपर्क टूटने की जानकारी दी।


कितनी उम्मीद बाकी


ISRO की तरफ से कहा गया है कि चंद्रयान-2 के डेटा का विश्लेषण किया जा रहा है। हमारे पास अभी तक कोई रिजल्ट नहीं है। क्रैश पर हम पक्के तौर पर कुछ नहीं कह सकते। चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अब भी चांद के चक्कर काट रहा है। एक साल तक ऑर्बिटर चांद की तस्वीरें भेज सकता है। इन तस्वीरों से चांद की स्थिति का पता चलेगा।


मिशन चंद्रयान-2 के आखिरी चरण में संपर्क टूटके बाद PM मोदी ने ISRO पहुंचकर वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेंगलूरु में स्थित इसरो सेंटर से देश को संबोधित किया और चंद्रयान-2 के संपर्क टूट जाने से उन्होंने वैज्ञानिकों को निराश नहीं होने के लिए कहा। इस दौरान उन्होंने इसरो के वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया और कहा कि वैज्ञानिकों ने पूरे देश की जनता को मुस्कुराने का मौका दिया है और पूरा देश वैज्ञानिकों पर गर्व कर रहा है। इसके अलावा उन्होंने ये भी कहा कि इसरो के वैज्ञानिक मक्खन पर लकीर नहीं बल्कि पत्थर पर लकीर खींचने की ताक़त रखते हैं। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि इसरो के पास कामयाबी की एक लंबी लिस्ट है और एक छोटी सी बाधा उन्हें रोक नहीं सकती है।


चंद्रयान-2 से संपर्क टूटने के बाद आज सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ISRO मुख्यालय पहुंचे। इस दौरान ISRO चीफ के. सिवन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गले लगकर रोने लगे। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने ISRO चीफ का हौसला बढ़ाया। इस दौरान पीएम मोदी भी भावुक हो गए।


लैंडर विक्रम से संपर्क टूटने के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने कहा है कि भारत हमारे प्रतिबद्ध और कठिन मेहनत करने वाले इसरो के वैज्ञानिकों के साथ है। चंद्रयान-2 को चांद के करीब पहुंचाने की ISRO की कोशिशों पर देश को गर्व है। उन्होंने भविष्य की यात्रा के लिए शुभकामनाएं दीं।


कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ISRO को शानदार काम के लिए बधाई दी और कहा कि ये प्रत्येक भारतीय के लिए वैज्ञानिकों का जुनून और समपर्ण एक प्रेरणा है। उन्होंने ये भी कहा कि आप का काम बेकार नहीं जाएगा।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।