Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

चंद्रयान -2: 3 दिनों के भीतर लैंडर विक्रम के मिलने की संभावना

वैज्ञानिकों का कहना है विक्रम के साथ क्या हुआ, कहां है, और कैसे है, इन सभी सवालों के जवाब ऑर्बिटर पर लगे उपकरणों के जरिए जल्द ही मिल सकता है।
अपडेटेड Sep 09, 2019 पर 10:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

चाँद पर सॉफ्ट लैंडिंग से कुछ ही समय पहले चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का ग्राउंड स्टेशन से संपर्क टूट गया था। जिस समय संपर्क टूटा, उस समय चांद से दूरी महज 2.1 किमी थी। इससे वैज्ञानिक मायूस हो गए थे। फिलहाल विक्रम के साथ क्या हुआ, कहां है कैसे है, ऐसे तमाम सवालों के जवाब अभी तक नहीं मिल पाए हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, ISRO वैज्ञानिकों का कहना है कि अगले 3 दिनों में विक्रम के बारे में जानकारी मिल सकती है। क्योंकि जिस जगह से संपर्क टूटा है, उस जगह में वापस आने में 3 दिन का समय लगेगा। हमें लैंडिंग साइट की पूरी जानकारी है। आखिरी समय में विक्रम अपने रास्ते से भटक गया था। उन्होंने आगे कहा कि ऑर्बिटर के तीन उपकरण Synthetic Aperture Radar (SAR), IR स्पेक्ट्रोमीटर, और कैमरे की मदद से 10X10 किलोमीटर के इलाके की निगरानी करनी होगी। विक्रम का पता लगाने के लिए उस इलाके की high-resolution तस्वीरें लेनी होगी। वैज्ञानिकों ने साफ तौर पर कहा है कि अगर विक्रम ने क्रैश लैंडिंग की होगी और वो कई टुकड़ों में बंट गया होगा, तब उसके मिलने की संभावना कम है। साथ ही ये भी कहा कि अगर उसके कंपोनेंट को नुकसान नहीं पहुंचा होगा, तो high-resolution तस्वीरों के जरिए पता चल जाएगा। ISRO चीफ सिवान ने कहा कि अगले 14 दिनों तक विक्रम से संपर्क बनाए रखने की कोशिश जारी रहेगी। ISRO की टीम इस काम में जुटी ही है। साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई है कि देश को 14 दिनों के भीतर कोई अच्छी खबर मिल सकती है।
  
 सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।