Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

भारत के बढ़ते व्यापार घाटे को थामेगा चीन

भारत के बढ़ते व्यापार घाटा (Trade Deficit ) से चीन चिंतित है और उसने भारत को सहयोग करने का भरोसा दिया है।
अपडेटेड Aug 13, 2019 पर 11:58  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत की अर्थव्वस्था में सुस्ती आई हुई है। भारत का Trade Deficit (व्यापार घाटा) बढ़ गया है। इससे देश के अर्थशास्त्री तो चिंतित हैं ही साथ चीन ने भी चिंता जताई है। देश में गोल्ड इम्पोर्ट में बढ़ोत्तरी हुई है। करेंट फिस्कल ईयर की अप्रैल-जून तिमाही में गोल्ड का इम्पोर्ट 35.5 फीसदी बढ़कर 11.45 अरब डॉलर (करीब 80,000 करोड़ रुपये) हो गया है।


कॉमर्स मिनिस्ट्री की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में गोल्ड इम्पोर्ट में वृद्धि से Trade Deficit (व्यापार घाटा) 2019-20 की अप्रैल-जून तिमाही में मामूली बढ़कर 45.96 अरब डॉलर पहुंच गया है। जबकि पिछले फाइनेंशियल ईयर की इसी अवधि में Trade Deficit 44.94 अरब डॉलर था।


इधर चीन के साथ भारत का Trade Deficit पिछले साल बढ़कर 57.86 अरब डॉलर तक पहुंच गया है। साल 2017 में Trade Deficit 51.72 अरब डॉलर था। बता दें कि दोनों देशों के बीच सालाना व्यापार 95.5 अरब डॉलर का है।


चीन का अमेरिका के साथ ट्रेड वॉर के चलते चीन का झुकाव भारत की तरफ बढ़ा है। देश के विदेश मंत्री एस. जयशंकर प्रसाद ने चीन की अपनी मौजूदा यात्रा में भारत के बढ़ते व्यापार घाटे पर चर्चा की है। प्रसाद ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि भारत-चीन आर्थिक संबंधों में थोड़ा सुधार हुआ है। द्विपक्षीय व्यापार भी बढ़ा है, लेकिन हमारा घाटा और बढ़ गया है। जो कि चिंता का विषय है। इस पर चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि चीन व्यापार असंतुलन को भारत की चिंताओं को स्वीकार करता है। वांग ने कहा कि ऐसा कदम उठाने के लिए तैयार हैं जिससे चीन को भारत का एक्सपोर्ट (निर्यात) बढ़ सके।


कुल मिलाकर अगर चीन अपने वादे पर कायम रहा तो बेशक भारत के व्यापार घाटे में कमी आएगी।


जानिए क्या होता है Trade Deficit (व्यापार घाटा) 


इम्पोर्ट और एक्सपोर्ट के अंतर को व्यापार संतुलन कहते हैं। जब किसी देश से एक्सपोर्ट के मुकाबले इम्पोर्ट अधिक होने लगे तो उसे Trade Deficit कहते हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।



  
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (@moneycontrolhindi) और Twitter (@MoneycontrolH) पर फॉलो करें।