Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

CNBC-MPC: धीमी पड़ती ग्रोथ सबसे बड़ी चुनौती, RBI से एक और रेट कट की उम्मीद

तिमाही आधार पर वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में GDP ग्रोथ 4.5 प्रतिशत रही।
अपडेटेड Dec 03, 2019 पर 10:27  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सरकार की तमाम कोशिशों की बावजूद ग्रोथ है कि पटरी पर आने का नाम नहीं ले रही है। ले देकर निगाहे टिक जाती है RBI पर कि वहां से कुछ मदद मिलेगी। 5 दिसंबर की पॉलिसी में भी सभी लोग ये उम्मीद लगाकर बैठे हैं कि वहां से 0.25 प्रतिशत की कटौती तो मिलेगी ही मिलेगी। ये उम्मीद बेवजह भी नहीं हैं क्योंकि खुद गवर्नर साहब कह चुके हैं कि जब तक ग्रोथ रफ्तार नहीं पकड़ती दरों में कटौती जारी रहेगी लेकिन लगातार 6 बार कटौती के बावजूद हालात में कोई सुधार नहीं आया है अब सवाल ये उठता है कि क्या एक और कटौती इकोनॉमी में जोश भर पाएगी।


इस विशेष चर्चा में सीएनबीसी-आवाज़ साथ Axis Bank के Chief Economist सौगत भट्टाचार्य, HDFC Bank के Chief Economist अभीक बरुआ, Bank of America के MD & Country Treasurer, जयेश मेहता और CRISIL के Senior Director & Chief Economist डी के जोशी जुड़ गये हैं।


GDP आंकड़ों पर एक नजर


तिमाही आधार पर वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में GDP ग्रोथ 4.5 प्रतिशत रही।


तिमाही आधार पर GDP ग्रोथ 5 प्रतिशत से घटकर 4.5 प्रतिशत रही


सालाना आधार वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में GDP ग्रोथ 7 प्रतिशत से घटकर 4.5 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ग्रोथ 6.9 प्रतिशत से घटकर -1 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर कृषि सेक्टर की ग्रोथ 4.9 प्रतिशत से घटकर 2.1 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर कंस्ट्रक्शन सेक्टर ग्रोथ 8.5 प्रतिशत से घटकर 3.3 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर इलेक्ट्रिसिटी ग्रोथ 8.7 प्रतिशत से घटकर 3.6 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर माइनिंग सेक्टर ग्रोथ -2.2 प्रतिशत से बढ़कर 0.1 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर ट्रेड एंड होटल ग्रोथ 6.9 प्रतिशत से घटकर 4.8 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर इंडस्ट्रीज ग्रोथ 6.7 प्रतिशत से घटकर 0.5 प्रतिशत रही


सालाना आधार पर सर्विस ग्रोथ 7.3 प्रतिशत से घटकर 6.8 प्रतिशत रही



RBI दर कटौती पर बाजार के दिग्गजों की रायः


RBI द्वारा दर कटौती की संभावना पर डीके जोशी की राय है इस पॉलिसी में 0.25 प्रतिशथ रेट कट की उम्मीद की जा सकती है।


अजय बग्गा ने RBI दर कटौती पर राय देते हुए कहा है कि इस पॉलिसी में 0.25 प्रतिशत रेट कट की उम्मीद है। वित्त वर्ष 2020 के लिए RBI ग्रोथ अनुमान घटा सकता है। यह ग्रोथ अनुमान घटाकर 5.7 प्रतिशl करने की उम्मीद है। उन्होंने आगे कहा कि इस पॉलिसी के बाद एक और रेट कट संभव है हालांकि फरवरी पॉलिसी में कटौती की गुंजाइश कम है लेकिन अप्रैल 2020 में 0.25 प्रतिशत का एक और रेट कट संभव है।


अभीक बरुआ की राय में इस पॉलिसी में 0.25 प्रतिशत रेट कट की उम्मीद की जा सकती है जबकि ग्रोथ अनुमान घटाकर 5 से 5.2 प्रतिशथ करने की उम्मीद है। इतना ही नहीं उन्होंने फरवरी में एक और रेट कट की उम्मीद भी जताई है।


रेट कट पर सौगात भट्टाचार्य ने कहा है कि इस पॉलिसी में 0.25 प्रतिशत रेट कट की उम्मीद है। इतना ही नहीं फरवरी में एक और रेट कट की उम्मीद की जा सकती है। वहीं GDP अनुमान घटाकर 5.5 से 5.5 प्रतिशत करना भी संभव है। उन्होंने नवंबर में CPI में बढ़ोतरी का अनुमान लगाया जा रहा है और साथ ही नवंबर में CPI 5.4 से 5.5 रहने का अनुमान भी जताया है।


जयेश मेहता का कहना है कि अबकी बार 0.25 से 0.50 प्रतिशथ रेट कटौती का अनुमान है। उन्होंने कहा कि एक साल में रेपो रेट घटकर 4 प्रतिशत के नीचे आ सकती है।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।