Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कंज्यूमर को लगने वाला है करंट, IUC चार्ज खत्म नहीं करने के मूड में TRAI

नए साल पर मोबाइल पर बात करना पर आपको थोड़ा महंगा पड़ सकता है।
अपडेटेड Oct 10, 2019 पर 15:50  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टेलीकॉम रेगुलेटर TRAI, मोबाइल कंज्यूमर को झटका देने की तैयारी में है। TRAI इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज की समीक्षा करने वाला है। अगर ऐसा हुआ तो अगले साल से मोबाइल पर बात करना महंगा हो सकता है। इससे पहले ट्राई ने 1 जनवरी 2020 से आईयूसी पूरी तरह खत्म करने के लिए गाइडलाइन जारी की थी।


नए साल पर मोबाइल पर बात करना पर आपको थोड़ा महंगा पड़ सकता है। दरअसल IUC यानि इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज जिसे trai पहली जनवरी से खत्म करने वाला था, अब वो उसके मूड में नहीं दिख रहा क्योंकि 18 सितंबर को TRAI ने IUC पर नया कंसलटेशन पेपर जारी करके कनफ्यूजन बढ़ा दिया है। ऐसे में माना जा रहा है कि अगर किसी बहाने IUC जारी रहा तो ये कंज्यूमर के हितों के खिलाफ होगा।


IUC यानी इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज दूसरी कंपनी के नेटवर्क का इस्तेमाल करने के एवज में लिया जाने वाला चार्ज है। ट्राई ने 1 अक्टूबर 2017 को IUC चार्ज 14 पैसे से घटा कर 6 पैसे कर दिया था। इससे मोबाइल पर बात करना सस्ता तो हुआ लेकिन trai का मकसद देर सवेर iuc को जीरो करना था। इसके लिए टेलीकॉम कंपनियों को टेक्नोलॉजी में अपग्रेड करने की जरूरत थी। लेकिन पुरानी टेलीकॉम कंपनियों ने ऐसा नहीं किया।


फिलहाल कंसलटेशन पेपर पर ट्राई ने 18 अक्टूबर तक सभी टेलीकॉम कंपनियों से इस पर राय मांगी है। इसके बाद 1 नवंबर तक काउंटर कमेंट आएगा फिर दिसंबर में समीक्षा के बाद नई गाइडलाइन आएगी। सवाल ये है कि ये कंज्यूमर के पक्ष में होगा या फिर पुरानी टेलीकॉम कंपनियों के हक में।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।