Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Corona treatment: चौथे सीरो सर्वे से उम्मीद की किरण, भारत पहुंचा हर्ड इम्यूनिटी के करीब !

इस नेशनल सर्वे से निकलकर आया है कि देश में 67.6% लोगों में कोरोना एंटीबॉडी बनी है
अपडेटेड Jul 24, 2021 पर 12:50  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देश में हुए चौथे सीरो सर्वे ने आशा की किरण जगा दी है। ICMR की तरफ से किए गए इस सर्वे में भारत हर्ड इम्यूनिटी के काफी करीब पहुंचता दिख रहा है। तो क्या तीसरी लहर के खतरों के बीच ये एक शानदार खबर है। सीरो सर्वे पर कितना भरोसा कर सकते हैं यहां हम इसी पर चर्चा कर रहे हैं।


उम्मीद का सर्वे


देश में चौथे सीरो सर्वे के नतीजे आ गए हैं। इस नेशनल सर्वे से निकलकर आया है कि देश में 67.6% लोगों में कोरोना एंटीबॉडी बनी है। ICMR ने जून और जुलाई में ये सर्वे  किया है। इसके लिए 21 राज्यों के 70 जिलों से सैंपल लिए गए।


क्या होता है सीरो सर्वे


इसमें लोगों का ब्लड टेस्ट किया जाता है। फिर इसमें कोरोना एंटी बॉडी की  जांच होती है। इसमें सीरो प्रिवेलेंस फार्मूले से निकालते हैं।


अब तक के सीरो सर्वे


ICMR ने अब तक 4 सीरो सर्वे किए हैं। मई-जून 2020 में 0.7% लोगों में एंटीबॉडी मिली थी। अगस्त-सितंबर 2020 में 7.1% लोगों में एंटीबॉडी थी।  दिसंबर-जनवरी 20/21 में 24.1% लोगों में एंटीबॉडी मिली थी। जून-जुलाई 2021 में 67.6% लोगों में एंटीबॉडी मिली है। बता दें कि 85% लोगों में एंटीबॉडी मिलने पर हर्ड इम्यूनिटी मानी जाती है।


वैल्यू का चक्कर


2.5% RO वैल्यू पर 60% पर हर्ड इम्यूनिटी मानी जाती है।  6.5% RO वैल्यू पर 85% पर हर्ड इम्यूनिटी होती है। बता दें कि वायरस के इंफेक्ट करने की क्षमता को RO वैल्यू कहते हैं। RO वैल्यू बार-बार बदलती है। वैक्सीनेशन की स्थिति पर नजर डालें तो अब तक 30% आबादी को सिंगल डोज लग चुका है। 6.5% आबादी को डबल डोज मिल चुका है।


एज ग्रुप में सीरो प्रिवेलेंस


6 से 9 साल के एज ग्रुप में 57.2%  सीरो प्रिवेलेंस मिला है। 10-17 साल में 61.6% सीरो प्रिवेलेंस मिला है। 18-44 साल में 66.7%, 45-60 साल में 77.6% और  60 साल से ज्यादा में 76.7% सीरो प्रिवेलेंस मिला है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.