Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Coronavirus crisis: COVID-19 ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल में HIV की दवा हो सकती है IN, HCQ हो सकती है OUT!

द इकोनॉमिक्स टाइम्स में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) अपने COVID-19 ट्रीटमेंट गाइडलाइंस में बदलाव करने जा रही है।
अपडेटेड May 19, 2020 पर 22:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

द इकोनॉमिक्स टाइम्स में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) अपने COVID-19 ट्रीटमेंट गाइडलाइंस में बदलाव करने जा रही है जिसके तहत आईसीएमआर HCQ के नाम से जानी जाने वाली दवा   hydroxychloroquine को अपने  COVID-19 इलाज के प्रोटोकॉल से हटा सकती है। इसकी वजह ये है कि HCQ के COVID-19 के इलाज प्रभावी होने पर संदेह किया जा रहा है।


इस रिपोर्ट में कहा गया है कि आईसीएमआर COVID-19 इलाज के अपने संशोधित प्रोटोकॉल में मरीजों में प्रतिरोध क्षमता बढ़ाने और वायरल रिप्लीकेशन घटाने के लिए एचआईवी की कॉम्बिनेशंन दवाओं और एफडीए अप्रुव Ivermectin के साथ जिंक और विटमिन -सी को सप्लीमेंट के तौर पर शामिल कर सकता है।


इस रिपोर्ट में कहा गया है कि आईसीएमआर COVID-19 के इलाज में HCQ के प्रभाव की जांच के लिए एक ट्रायल भी शुरु करने वाला है।


मनीकंट्रोल इस खबर की स्वतंत्र रुप से पुष्टि नहीं करता।


इस घटना क्रम से जुड़े हुए एक व्यक्ति ने द इकोनॉमिक्स टाइम्स से कहा कि हमें पता है कि HCQ, COVID-19 के इलाज में काम नहीं कर रही है। इसलिए हमें इसको ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल से बाहर करना चाहिए और जो दवाएं कोरोना के इलाज में प्रभावी पाई गई हैं उनको प्रोटोक़ॉल में शामिल करना चाहिए। 


गौरतलब है कि कुछ माइक्रो बायोलॉजिस्ट ने कोरोना के इलाज में HCQ के उपयोग का विरोध किया  है। इसके बावजूद भी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 18 मई को कहा कि वे COVID-19 के खिलाफ एक प्रिवेंटिव ड्रग के रुप में HCQ ले रहे हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।