Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Coronavirus impact: भारत में ऑटो बिक्री को अपने शीर्ष पर पहुंचने में लगेंगे 3-4 साल

इस वित्त वर्ष में कारों, एसयूवी, मोटोसाइकिलों और ट्रकों की बिक्री अपने पिछले 1 साल के स्तर की तुलना में 75 फीसदी गिरी है।
अपडेटेड Jul 15, 2020 पर 17:21  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सियाम (SIAM) ने 15 जुलाई को कहा है कि भारत में ऑटो कंपनियों की बिक्री को अपने 2018 के शीर्ष स्तर पर लौटने में कम से कम 3 से 4 साल लगेंगे। इसकी वजह यह है कि कोरोना वायरस महामारी ने पहले से ही मंदी के दौर से गुजर रहे ऑटो सेक्टर की हालात और बुरी कर दी है।


सियाम के आकंड़ों के मुताबिक 1 अप्रैल से शुरु हुए वित्त वर्ष में देश में कार, एसयूवी, मोटरसाइकिल और ट्र्कों की बिक्री पिछले वर्ष की तुलना में करीब 75 फीसदी गिरकर 15 लाख यूनिट पर आ गई है।


बता दें कि वित्त वर्ष 2018-19 में जब ऑटो बिक्री अपने शीर्ष पर थी तो 2.6 करोड़ वाहनों की बिक्री दर्ज की गई थी।


सियाम के प्रेसिडेंट राजन वढेरा (Rajan Wadhera) ने रिपोर्टरों से बात करते हुए कहा कि ऑटो सेक्टर पर कोरोना की बहुत गहरी मार पड़ने वाली है। उन्होंने कहा हमें यह नहीं लगता कि हम 3-4 साल से पहले  हम अपने 2018 के शीर्ष स्तर पर लौट पाएंगे।


गौरतलब है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में भारत में मार्च के अंतिम हफ्ते से लॉकडाउन लागू कर दिया गया जिसकी वजह से ऑटो कंपनियों में उत्पादन बंद हो गया। हालांकि लॉकडाउन में धीरे-धीरे नरमी के साथ ही ऑटो कंपनियों में कुछ प्रतिबंधों के साथ उत्पादन फिर भी शुरु हो गया है। फिर भी ऑटो सेक्टर का प्लांट यूटिलाइजेशन 20 से 30 फीसदी के निचले स्तर पर  ही है। 


राजन वढेरा ने आगे कहा कि उम्मीद है कि इस महीने तक ऑटो कंपनियों का प्लांट यूटिलाइजेशन 40 फीसदी के स्तर तक आ जाएगा लेकिन सप्लाई चेन अभी तक बाधित है और इसके अलावा कुछ शहरों में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से फिर से लॉकडाउन लगाया जा रहा है।


गौरतलब है कि कर्नाटक स्थित टोयोटा मोटर्स के कार प्लांट में कुछ कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद इस प्लांट को मंगलवार से लॉकडाउन में डाल दिया गया है।


राजन वढेरा ने आगे कहा कि कारों की मांग में कुछ बढ़त देखने को मिल रही है लेकिन यह तब तक ठीक से गति नहीं पकड़ेगी जब तक सरकार मांग को बढ़ावा देने के लिए कोई कदम नहीं उठाती। सियाम सरकार से ऑटो बिक्री पर टैक्स घटाने और पुराने व्हीकल के स्क्रैपिंग पर इन्सेटिव देने की मांग कर रही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।