Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Coronavirus pandemic: गोवा में लॉकडाउन से प्रतिबंधित मछली बिक्री आज होगी शुरू

मछली बिक्री करने की मंजूरी के साथ सोशल डिस्टेंसिंग सहित कुछ राइडर का सख्ती से पालन करने की शर्त भी लागू है।
अपडेटेड Apr 06, 2020 पर 15:46  |  स्रोत : Moneycontrol.com

गोवा मत्स्यपालन विभाग ने आज से राज्य में मछली बिक्री करने को मंजूरी प्रदान की है लेकिन साथ ही कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग सहित कुछ राइडर का सख्ती से पालन करने की शर्त भी लागू की है।


तटीय राज्यों के लोगों के लिए मछली उनके किचन का प्रमुख व्यंजन होता है और पिछले महीने लॉकडाउन लागू होने केॉ बाद से इसकी बिक्री पर प्रतिबंध लागू किया गया था।


गोवा के मत्स्यपालन मंत्री फिलिप नेरी रॉड्रिग्स ने कहा कि प्रतिबंध लागू किये जाने के पूर्व पकड़ी गई मछलियों का स्टॉक राज्य के विभिन्न कोल्ट स्टोरेज में पड़ा हुआ है। हम यह भी समझते हैं कि लोग मछली खाना चाहते हैं। उन्होंने कई दिनों से मछली नहीं खाई है। इसलिए संतुलन बनाये रखने के लिए सरकार ने मत्स्यपालन सहकारी सोसाइटियों और संगठनों को मछली बेचने की अनुमति प्रदान की है।


उन्होंने आगे कहा कि पारंपरिक मछली बाजार कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने की दृष्टि से बंद ही रहेंगे। सरकार बिना बाजार को खोले लोगों को मछली खरीदने के लिए कैसे अनुमति दी जाये इससे संबंधित मॉडल और रूपरेखा पर काम कर रही है। रॉड्रिग्स के मुताबिक कम से कम 500 टन मछली का स्टॉक कोल्ड चेन में पड़ा हुआ है और इसके खराब हो जाने से पहले इसे बेचना जरूरी है।


उधर All Goa Wholesale Fish Markets Association के अध्यक्ष इब्राहिम मौलाना ने कहा कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए मछली बाजार को बंद करने के सरकार के फैसले का हमने स्वागत किया था। लेकिन समस्या उन मछली स्टॉक की है जो पहले से ही कोल्ड स्टोरेज में पड़े हुए हैं।


उन्होने आगे कहा कि गोवा के तटों से जाल से पकड़ी जाने वाली करीब 80 प्रतिशत मछलियां निर्यात की जाती हैं जबकि केवल 20 प्रतिशत मछलियां ही राज्य के लोगों द्वारा खाई जाती हैं।


मौलाना ने सुझाव दिया कि जब हम मछलियां बेचेंगे तब यह देखना जरूरी होगा कि असल में कितनी मछलियां बाजार से खरीदी जाएंगी। इसके अलावा गर्दी से बचने के लिए मछली को खुले में बेचने की बजाय मछली विक्रेताओं को 1 किलो के पैकेट बनाकर सीधे ग्राहकों को सौंपना चाहिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।