Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

दुनिया के 33 देशों में पहुंचा कोरोना वायरस, जानिए क्यों है सावधानी जरूरी

WHO के मुताबिक कोरोना वायरस को अभी पैनडेमिक यानि दुनिया भर की महामारी नहीं कहा जा सकता।
अपडेटेड Feb 27, 2020 पर 12:59  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

WHO के मुताबिक कोरोना वायरस को अभी पैनडेमिक यानि दुनिया भर की महामारी नहीं कहा जा सकता। लेकिन इसके साथ ही वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने ये भी कहा है कि इसकी गंभीरता को बिल्कुल भी कम करके ना देखें। अब इसका विस्तार 34 देशों तक हो चुका है, और इसके फैलने का खतरा पहले से ज्यादा है। पहले चीन से आने जाने वालों पर नजर रखी जा रही थी, लेकिन अब तो इन 34 देशों पर नजर रखनी होगी। भारत के लोग आज दुनिया के लगभग हर देश में आ जा रहे हैं, काम कर रहे हैं। इसलिए खतरा समझा जा सकता है। लेकिन बड़ा सवाल है कि ऐसे में हम क्या करें।


विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO के मुताबिक अब कोरोना के बढ़ने की रफ्तार घटी है, लेकिन ये राहत महसूस करने का वक्त बिल्कुल नहीं है क्योंकि WHO के मुताबिक वायरस के DNA में कोई बदलाव नहीं हुआ है और वो अपने आप में अभी कमजोर नहीं पड़ा है। ऊपर से इसका फैलाव अब चीन समेत दुनिया के 34 देशों तक हो चुका है।


25 फरवरी तक की रिपोर्ट के मुताबिक चीन में 2666 मौतें हो चुकी हैं और 77 हजार से ज्यादा कंफर्म केसेस रिपोर्ट हुए हैं। चीन के अलावा 33 देशों में 34 मौत हुई है और 24 सौ से ज्यादा कंफर्म केस मिले हैं। जहां तक भारत की बात है तो यहां शुरू में जो 3 मरीज पाए गए थे उनके अलावा कोई केस रिपोर्ट नहीं हुआ है।


लेकिन खतरा घटने की जगह बढ़ गया है। क्योंकि अब कोरिया, इटली, ईरान, अमेरिका और जापान समेत 33 ऐसे देशों में कोरोना के मरीज मिल रहे हैं, जहां से दुनिया भर के लोगों का आना जाना है। ऐसे में संक्रमण एक से दूसरे देश में पहुंचने और फिर एक से दूसरे व्यक्ति में फैलने का खतरा बढ़ गया है।



क्या है Coronaviruses?


- खतरनाक वायरस का एक बड़ा समूह
- पहले दो बीमारियां इसी ग्रुप से हुई थीं
- Middle East Respiratory Syndrome (MERS)
- Severe Acute Respiratory Syndrome (SARS)
- coronavirus समूह में 2019-nCoV नया वायरस
- कई जानवरों में coronavirus की मौजूदगी है



WHO का संदेह


- 23 JAN से 2 FEB तक तेज फैलाव
- वायरस के DNA में बड़ा बदलाव नहीं
- वायरस फैलने से रोका जा सकता है
- 14 देशों में 1 सप्ताह से नया केस नहीं
- 9 देशों में 2 सप्ताह से नया केस नहीं
- नए केस आने का खतरा टला नहीं
- अब चीन से ज्यादा नए मामले बाहर
- इसमें वैश्विक महामारी का खतरा है
- प्रभावित देश वायरस फैलने से रोकें
- देश महामारी के खिलाफ तैयार रहें
- जल्दी बीमारी पकड़ें, अलग थलग करें
- वायरस अस्पताल से बाहर ना जाने दें
 - सबसे पहले हेल्थ वर्कर को सुरक्षित करें
- बीमा, बूढ़े, कमजोर लोगों को बचाएं
 - कमजोर देशों तक वायरस पहुंचने ना दें


अफवाहों से बचें


- WHO ने जारी की अफवाहों की काट
- चीन से आने वाले पार्सल सुरक्षित हैं
- पैकेट पर वायरस जिंदा नहीं बचेगा
 - घरेलू PET से कोरोना का खतरा नहीं
- PET से दूसरे वायरस आ सकते हैं
- कोरोना से बचाव का वैक्सीन नहीं है
- अभी तक कोरोना की कोई दवा नहीं


लक्षण और इलाज


- अलग-अलग मरीज के लक्षण अलग
- बुखार, खांसी, सर्दी, सांस में दिक्कत
- छोटी-छोटी सांस लेना, निमोनिया
- severe acute respiratory syndrome
- किडनी फेल होना और अकाल मृत्यु
- आदमी से आदमी में फैलता है वायरस
- अस्पताल के स्टाफ को भी खतरा
- वायरस लाइलाज, लक्षणों का इलाज
- coronavirus की ठीक से पहचान नहीं हुई
- वायरस का वैक्सीन बनने में वक्त लगेगा


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।