Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Covid-19: बैंक ऑफ बड़ौदा ने महिला SHGs और FPOs की मदद के लिए बढ़ाए हाथ

बैंक ऑफ बड़ौदा COVID-19 से उपजे वित्तीय संकट में महिला Self-help Groups को 1 लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता मुहैया कराएगी
अपडेटेड Apr 09, 2020 पर 08:43  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस की वजह कई लोगों को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे हालात में बैंक ऑफ बड़ौदा ने महिला स्वयं सहायता समूहों (Women self-help groups SHGs) को 1 लाख रुपये तक का फाइनेंशियल सपोर्ट करेगा। मंगलवार को बैंक ने इस बारे में जानकारी दी।


बैंक ने किसी भी नकदी समस्या से निपटने के लिए किसान उत्पादक संगठनों (Farmers Producer Organisations - FPO/FPC) के लिए एक आपातकालीन क्रेडिट लाइन की भी घोषणा की है। SHGs-COVID19 योजना के तहत, बैंक नकद क्रेडिट या ओवरड्राफ्ट या टर्म लोन के रूप में मौजूदा SHG की सुविधाओं को सहायता करेगा।


बैंक ने जारी किए गए अपने बयान में कहा है कि एक SHG को कम से क 30,000 रुपये तक का लोन दिया जाएगा। अधिक से अधिक लोन 1 लाख रुपये प्रति सदस्य है। इसे 24 महीनों में चुकाना होगा।


इस योजना के तहत रीपेमेंट मासिक या तीन महीने के आधार पर किया जाएगा। साथ लोन लेने की तारीख से 6 महीने का मोरेटोरियम भी दिया जाएगा। FPO/FPC के लिए लोन कलेक्टिव लिमिट का 10 फीसदी मंजूर किया जाएगा, जो कि अधिकतम 5 लाख रुपये, 36 महीने की अवधि के साथ हो सकती है। इसमें मोरेटोरियम का समय 6 महीने का होगा।
इमरजेंसी फंड की जरूरतों को पूरा करने के लिए बैंक डेयरी और मछली पालन करने वाले किसानों को इंस्टैंट क्रेडिट देगा। जिससे उन्हें खेत के रखरखाव और खेती से संबंधित दूसरे कामों को करने में मदद मिलेगी। स्कीम के तहत लोन की सीमा किसान क्रेडिट कार्ड की मंजूर की गई सीमा की 10 फीसदी जो कि न्यूनतम 10 हजार रुपये और अधिकतम 50 हजार रुपये हो सकती है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।