Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Cororna pandemic: ऑक्सीजन की किल्लत से चिंता बढ़ी, विदेश से ऑक्सीजन मंगाने की तैयारी

देश में ऑक्सीजन संकट बढ़ता जा रहा है। सरकार ने लिक्विड ऑक्सीजन बनाने वाली कंपनियों को चेतावनी भी दी है
अपडेटेड Sep 26, 2020 पर 14:40  |  स्रोत : CNBC-Awaaz


 देश में ऑक्सीजन संकट बढ़ता जा रहा है। सरकार ने लिक्विड ऑक्सीजन का निर्माण करने वाली कंपनियों को चेतावनी भी दी है। लिक्विड ऑक्सीजन के आयात की तैयारी भी कर ली गई है। ऑक्सीजन संकट पर सरकार के एक्शन प्लान के तहत ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया जाएगा। डिमांड सप्लाई की निगरानी के लिए अलग कंट्रोल रूम होगा। सकार का मिडिल ईस्ट से लिक्विड ऑक्सीजन मंगाने का प्लान है।  कंपनियों से ऑक्सीजन प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए भी कहा गया है। इसके लिए स्टील प्लांट्स को भी मदद करने को कहा गया  है। केंद्र सरकार ने अपील की है कि राज्य सरकारेंऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी रोकने के लिए सख्त कदम उठाएं।


गौरतलब है कि  कोरोना महामारी के दौरान कुछ समय से ऑक्सीजन की मांग अचानक तेजी से बढ़ गई है। पिछले डेढ़ महीने से ऑक्सीजन की मांग बढ़ने के साथ ही उसकी सप्लाई बाधित हो रही है। पहले कोलकाता, औरंगाबाद और दिल्ली से तय समय पर उसकी सप्लाई हो जाती थी लेकिन उन जगहों पर भी मरीजों की तेजी से बढ़ती संख्या के कारण डिमांड समय पर पूरी नहीं हो पा रही है। इसके अलावा घर पर भी मरीजों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की डिमांड काफी संख्या में की जा रही है। स्टॉक न होने से सप्लाई समय पर करने में समस्या हो रही है। इसके कारण अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो रही है। स्थिति इतनी खराब हो गई है कि ऑक्सीजन की मांग पहले की अपेक्षा 70 फीसदी तक ज्यादा बढ़ गई है। ऐसे में एक तरफ सप्लायर जहां ऑक्सीजन की सप्लाई करने में लेटलतीफी कर रहे हैं, वहीं कीमत भी बढ़ा कर ले रहे हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।