Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पेट्रोल, डीजल में क्रूड से कम गिरावट क्यों!

प्रकाशित Tue, 27, 2018 पर 16:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कुछ दिन पहले तक पेट्रोल, डीजल की महंगाई जान निकाल रही थी और तब इसका सबसे बड़ा विलेन बताया गया क्रूड की बढ़ती कीमतों को। लेकिन अब क्रूड तेजी से गिर रहा है और पेट्रोल, डीजल की कीमतों में उतनी तेजी से गिरावट नहीं हो रही है। पिछले 1.5 महीने में क्रूड 30 फीसदी तक नीचे आ चुका है। यही नहीं रुपया भी एक महीने में 5 फीसदी मजबूत हुआ है। लेकिन पेट्रोल में सिर्फ 9.5 फीसदी और डीजल में सिर्फ 6.5 फीसदी की राहत दिख रही है। सवाल उठता है कि अब कौन विलेन है जो पेट्रोल, डीजल की कीमतों को तेजी से गिरने नहीं दे रहा है। कोई कहता है कि तेल कंपनियां क्रूड के 15 दिन के रोलिंग एवरेज पर दाम तय करती हैं तो कोई कहता है कि कंपनियां अभी अपना नुकसान पूरा कर रही हैं। वो नुकसान जो 4 अक्टूबर को दी गई 1 रुपये की राहत की वजह से हुआ है।


जानकारों का कहना है कि क्रूड और पेट्रोल कीमतों में सीधा रिश्ता नहीं है। क्रूड के 15 दिन के औसत का फॉर्मूला लागू है। 15 दिन के औसत वाले फॉर्मूला से दाम घटाने में देरी हो रही है। पेट्रोल, डीजल के दाम देर-सबेर कम होंगे। सस्ते क्रूड का असर 15 दिन के बाद दिखेगा। वहीं कुछ जानकार 15 दिन वाली बात नहीं मानते। इनका कहना है कि कंपनियां अपना घाटा कम कर रही हैं। अक्टूबर से दी गई 1 रुपये प्रति लीटर राहत की अब वसूली जा रही है।