Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

प्रॉपर्टी की कीमतों में दिल्ली सातवें स्थान पर

प्रकाशित Fri, 17, 2019 पर 09:43  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रियल एस्टेट सेक्टर में घर खरीदने वालों को भले ही महंगे घर लग रहे हों। लेकिन रिपोर्ट कुछ ऐसा कहती है। जिससे पता चलता है कि प्रॉपर्टी के दामों में खास बढ़ोतरी नहीं ही। ट्रेड वॉर का खतरा मंडरा रहा हो, ब्रेक्स्ट को लेकर अनिश्चितता हो या फिर आईएमएफ ने 70 फीसदी अर्थव्यवस्था पर मंदी की आशंका व्यक्त की हो। इन सबके बीच रियल एस्टेट सेक्टर में साल 2009 की पहली तिमाही के बाद सबसे कम सालाना वृद्धि दर्ज की गई है।


 बिजनेस स्टैंडर्ड के मुताबिक, इंटनेशनल प्रॉपर्टी कंसलटेंट नाइट फ्रैंक ने कैलेंडर ईयर 2019 की पहली तिमाही के लिए अपने प्राइम ग्लोबल सिटीज इंडेक्स के तहत आंकड़े जारी किए हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक, पूरी दुनिया के 45 शहरों में मुख्य प्रॉपर्टी की कीमतों में बढ़ोतरी जहां दो साल पहले 4.3 फीसदी थी, वहीं मौजूदा समय में यह घटकर 1.3 फीसदी रह गई है।


 भारतीय शहरो में दिल्ली टॉप 10 में शामिल है। और उसे 12 महीने के आधार पर 5.8 फीसदी तक की संपत्ति कीमत वृद्धि के साथ 7 वां स्थान मिला है। जिसके बाद इस इंडेक्स मं 2 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ बेंग्लुरु 20 वें स्थान पर है। तीन महीने के आधार पर, जहां दिल्ली की संपत्ति कीमतें 4.4 फीसदी तक बढ़ी हैं। वहीं बेंग्लुरु के लिए यह आंकड़ा 0.8 फीसदी रहा।


इसके साथ ही 31 वें नम्बर को हासिल कर चुकी मुंबई में 12 महीने के आधार पर 0.6 फीसदी और तीन महीने के आधार पर महज 0.3 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।


नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर शिशर बैजल ने कहा कि, इंडियन रियल एस्टेट मार्केट में कुछ समय से ठहराव की स्थिति बनी हुई है। बैजल ने आगे कहा कि डेवलपरों ने भी कम मांग की वजह से अपना ध्यान किफायती और मिड-सेगमेंट की ओर खास रूप से ध्यान दिया है।