Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

दिल्ली में पानी को लेकर छिड़ा सियासी संग्राम, सुप्रीम कोर्ट की चौखट पर पहुंचा मामला

दिल्ली के कई इलाकों में आरओ के फिल्टर पर रोक लगी हुई है। ऐसे में पानी की गुणवत्ता को लेकर वाटर क्वालिटी इंडिया एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।
अपडेटेड Nov 22, 2019 पर 15:57  |  स्रोत : Moneycontrol.com

दिल्ली का पानी गंदा है या साफ है। पीने लायक है या नहीं है। इस पर भी अभी तक किसी को कुछ नहीं पता है। लेकिन दिल्ली में पानी का मुद्दा सियासी भेंट चढ़ते हुए सुप्रीम कोर्ट की चौखट पर पहुंच गया है।


दरअसल मामला कुछ यूं है कि दिल्ली के कई इलाकों में National Green Tribunal (NGT) ने आरओ के इस्तेमाल पर रोक लगाई है। ऐसे में आरओ बनाने वाली कंपनियों के संगठन ने NGT के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाल दी है।


आरओ बनाने वाली कंपनी के संगठन वाटर क्वालिटी इंडिया एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि राष्ट्रीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) की रिपोर्ट में दिल्ली का पानी पीने लायक नहीं है। ऐसे में आरओ पर लगी रोक को हटाना चाहिए।


इस याचिका की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि आरओ निर्माता 10 दिन के भीतर सरकार के सामने अपनी बात रखें। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने NGT के आदेशों पर हस्ताक्षेप करने से मना कर दिया है। जिसमें कहा गया था कि दिल्ली के उन क्षेत्रों में आरओ फिल्टर का इस्तेमाल नहीं होगा जहां पानी में कुल घुले ठोस पदार्थों(टीडीएस) की गिनती 500 से कम होगी। इसके साथ ही अदालत ने आरओ निर्माताओं को अपनी बात लेकर सरकार के पास जाने का आदेश दिया है।


इस खबर के आते ही आम आदमी पार्टी और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के बीच सियासी संग्राम छिड़ गया। रामविलास पासवान ने ट्वीट कर लिखा था कि अगर दिल्ली का पानी शुद्द है तो अरविंद केजरीवाल जी को घोषणा करें कि उनके सभी कार्यालयों से  RO हटा लिया जाएगा। सभी सरकारी बैठकों में नल का पानी पिलाया जाएगा और दिल्ली सरकार पानी के मानक को मेंडेटरी करने की अनुशंसा करे।


राम विलास पासवान के इस ट्वीट पर आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने निशाना साधा। संजय सिंह ने ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि- अब असली दर्द निकला बाहर मंत्री जी RO कंपनी से क्या डील हुई है बता दीजिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।