Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

लैंड पूलिंग से बदलेगी दिल्ली, सस्ता घर खरीदने का सपना होगा पूरा

दिल्ली में अफोर्डेबल हाउसिंग की बहार आने वाली है और ये होगा लैंड पूलिंग के जरिए।
अपडेटेड Sep 15, 2019 पर 09:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

दिल्ली में अफोर्डेबल हाउसिंग की बहार आने वाली है और ये होगा लैंड पूलिंग के जरिए। आवास मंत्री हरदीप सिंह पुरी के मुताबिक दिल्ली में लैंड पूलिंग के जरिए 1000 हेक्टर से ज्यादा जमीन निकाली जाएगी जिस पर 85 हजार से ज्यादा घर बनाए जाएंगे। जिसमें से 58,000 यूनिट्स सामान्य वर्ग के लिए होंगे और 27,000 यूनिट आर्थिक रूप के कमजोर वर्ग के लिए होंगे।


आवास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि लैंड पूलिंग पॉलिसी के जरिये हम दिल्ली का चेहरा बदलने जा रहे हैं। लैंड पूलिंग पॉलिसी के तहत जो बिल्डिंग बनेंगे उसमे मॉडर्न ग्रीन बिल्डिंग नियमों का पालन होगा। डेवलपर को इस बात की आज़ादी होगी कि वो मेट्रो, बस स्टेशन के नजदीक बहुमंजिला ईमारत बनाएं और बाकी जगहों को अपने पसंद से डेवलप करें। दिल्ली के लैंड पूलिंग ज़ोन के जरिये हम दिल्ली में आवासीय घरों की कमी को दूर करने जा रहे हैं। इससे ग्राहकों को बड़े विकल्प मिलने जा रहे हैं।


तो अगर आप दिल्ली में सस्ता घर खरीदना चाहते हैं तो अगले कुछ सालों में आपका सपना पूरा हो सकता है। बाहरी दिल्ली के बवाना, बुराड़ी, नरेला जैसे इलाकों में वर्ल्ड क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की तैयारी शुरू हो गई है। लैंड पूलिंग ज़ोन के तहत आने वाले इन इलाकों में बड़ी रियल एस्टेट कंपनियां निवेश की योजना बना रही हैं।


इस मसले पर टाटा रियल्टी एंड इंफ्रा के एमडी एंड सीईओ संजय दत्त ने कहा कि इस योजना से रियल एस्टेट डेवलपर्स को दिल्ली में निवेश का बड़ा मौका मिल रहा है। लैंड पूलिंग के तहत प्रोजेक्ट काफी फायदेमंद होंगे। एयरपोर्ट से नजदीकी और मेट्रो की वजह से डेवलपर्स बड़े निवेश की योजना बना रहे हैं। डेवलपर्स, फॉरेन संस्थाएं और फंड हाउसेज के सहयोग से निवेश की योजना बन रही हैं। लैंड पूलिंग जोन में वर्ल्ड क्लास इंफ्रा तैयार होगा। दिल्ली में 60 से 90 लाख वर्ग फुट ऑफिस का डिमांड है। जाहिर है ये डिमांड भी बढ़ेगी इसकी वजह से रेजिडेंशिल डिमांड में भी तेजी आएगी।


इस बातचीत में उन्होंने आगे कहा कि डीडीए ने जो डेवलपमेंट प्लान तैयार किया है उसमें अफोर्डेबल हाउस भी बनेंगे लिहाजा प्रीमियम क्लास के साथ-साथ सस्ते घर भी खरीदने का मौका होगा। अभी निवेश प्लान की योजना बन रही है पर मुझे उम्मीद है कि लोकेशन को देखते हुए अगले 1-2 साल में कम से कम 12-15 रियल एस्टेट कंपनियां निवेश करेंगी। हर कंपनी करीब 200-400 करोड़ रुपये का निवेश कर सकती है। प्रोजेक्ट में लाभ की गुंजाइश को देखते हुए हम भी दिलचस्पी ले रहे हैं। टाटा इंफ्रा और टाटा हाउसिंग दोनों निवेश प्रस्ताव पर बात कर रहे हैं अभी इसके बारे विश्लेषण किया जा रहा है।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।