देश में प्रतिबंधित दवाएं बना सकेंगी कंपनियां -
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

देश में प्रतिबंधित दवाएं बना सकेंगी कंपनियां

प्रकाशित Wed, 08, 2018 पर 09:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फार्मा कंपनियां अब देश में ऐसी बैन या अनअप्रूव दवा बना सकेंगे जो दूसरे देशों में बेची जा सकती है। इन्हें बनाने या इनके एक्सपोर्ट के लिए अब कंपनियों को सेंट्रल ड्रग कंट्रोलर की मंजूरी नहीं लेनी होगी। फार्मा सेक्टर में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस को बढ़ावा देने के इरादे से स्वास्थ्य मंत्रालय ने फार्मा कंपनियों को ये बड़ी राहत दी है। नए नियमों से अब प्रतिबंधित दवा का निर्माण/निर्यात आसान होगा। इसके लिए अब केंद्रीय ड्रग कंट्रोलर से एनओसी नहीं लेनी होगी। स्टेट ड्रग कंट्रोलर की इजाजत से ही ये काम होगा।


स्वास्थ्य मंत्रालय ने ये आदेश जारी किए हैं जो 20 अगस्त से लागू हो जाएंगे। ये नियम बैन दवा/ नई दवा के निर्यात पर लागू होंगे। इसके लिए कंपनियों के पास एक्सपोर्ट ऑर्डर होना जरूरी होगा।


इसके अलावा निर्यात वाली दवा का क्वालिटी कंट्रोल टेस्ट भी जरूरी होगा। बैन दवा के भारत में बिकने पर कंपनी की जिम्मेदारी होगी। इसके साथ ही दवा निर्माण से जुड़ी सारी जानकारी रखना जरूरी होगा। नए नियमों से सिप्ला, ल्यूपिन, वॉकहार्ट्स, फाइजर, कैडिला को राहत मिलेगी। बैन/प्रतिबंधित दवा का कारोबार 2000 करोड़ रुपये का है।