Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

स्टार्टअप्स के लिए DVR में हुआ बदलाव, पूंजी जुटाना हुआ आसान

इस बदलाव से देशी कंपनियों को मैनेजमेंट कंट्रोल में मदद मिलेगी और बिना मैनेजमेंट कंट्रोल खोए इक्विटी बेची जा सकेगी।
अपडेटेड Aug 18, 2019 पर 19:00  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

CNBC-आवाज़ की खबर पर एकबार फिर मुहर लगी है। कुछ दिन पहले आवाज़ ने आपको बताया था कि स्टार्टअप्स को पूंजी जुटाने में आसानी हो इसके लिए सरकार कंपनीज एक्ट के तहत डिफरेंशियल वोटिंग राइट्स में बदलाव कर सकती है। तो अब आपको बता दें कि इसपर फैसला हो गया है। सरकार ने DVR यानी डिफरेंशियल वोटिंग राइट्स में बदलाव कर दिया है। ताकि कंपनियां मैनेजमेंट कंट्रोल सरेंडर किए बिना इक्विटी बेच सकें। संशोधन के तहत दो बड़े बदलाव किए गए हैं। कंपनी में पेडअप शेयर कैपिटल की मौजूदा कैप 26 फीसदी से बढ़ाकर 74 फीसदी कर दी गई है। साथ ही शेयर जारी करने के लिए मौजूदा 3 साल की डिस्ट्रीब्यूटेबल प्रॉफिट देने की शर्त भी हटा दी गई है।


इस बदलाव से देशी कंपनियों को मैनेजमेंट कंट्रोल में मदद मिलेगी और बिना मैनेजमेंट कंट्रोल खोए इक्विटी बेची जा सकेगी। इस तरह इक्विटी बेचकर कंपनियां कैपिटल जुटा सकेंगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।