Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कोरोना पर नियंत्रण के बिना भारत में इकोनॉमिक रिकवरी एक बड़ी चुनौती: मूडीज

मूडीज ने भारत की क्रेडिट रेटिंग को घटाकर BAA3 कर दिया था और निगेटिव आउटलुक बनाए रखा था।
अपडेटेड Jul 06, 2020 पर 10:19  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मूडीज के इनवेस्टर सर्विस के चेयरमैन ने कहा कि हमें उम्मीद है कि कोरोना की वैक्सीन मिल जाएगी लेकिन इसमें उम्मीद से कहीं ज्यादा समय लग सकता है। उन्होंने कहा कि जब तक कोरोना को मामलों में गिरावट नहीं दिखने लगती तब तक भारत में इकोनॉमिक रिकवरी के रास्ते में एक बड़ी चुनौती  बनी रहेगी।


मूडीज के इनवेस्टर सर्विस के चेयरमैन Henry McKinnell ने Financial Times से अपनी बातचीत में कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए हमारे पास अभी सिर्फ एक तरीका है और वो है सोशल डिस्टैंसिंग जिसका पालान भारत जैसे घनी आबादी वाले देश में काफी कठिन हैं। उन्होंने आगे कहा कि घातक महामारी के लिए वैक्सीन के विकास में अभी लंबा वक्त लग सकता है।  हमें उम्मीद है कि कोरोना की वैक्सीन मिल जाएगी लेकिन इसमें उम्मीद से कहीं ज्यादा समय लग सकता है।


देश में कोरोनावायरस (Covid-19) संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटों में 17,000 केस रिपोर्ट हुए हैं। इसी के साथ कोरोनावायरस संक्रमण के मामले में भारत अब रूस को पीछे छोड़कर तीसरे नंबर पर आ गया है। भारत में महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली और गुजरात में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले हैं। वैश्विक स्तर पर 1 करोड़ 15 लाख 44 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं और 5 लाख 36 हजार से ज्यादा लोगों की इसके चलते मौत हो चुकी है। दुनिया में इस संक्रमण का सबसे बुरा असर अमेरिका पर हुआ है। वहां इस महामारी से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 28,52,807 पहुंच गई है। वहीं Covid-19 से मरने वाले लोगों की संख्या वहां 1,29,718 हो गई है। दूसरे नंबर पर 15,77,004 केस के साथ ब्राजील है।


दो महीने के लंबे लॉकडाउन के बाद देश कोरोना को बढ़ते मामले को बावजूद तेजी से लॉकडाउन के प्रतिबंधों से बाहर आ रहा है। Henry McKinnell ने कहा कि कोरोना वायरस ही देश में इकोमिक रिकवरी की गति तय करेगा। इस स्थिति में यदि इस वायरस पर नियंत्रण ही आर्थिक गतिविधियों में तेजी या सुधार की शर्त है तो भारत के सामने एक बहुत बड़ी चुनौती है।


बता दें की मूडीज ने भारत की क्रेडिट रेटिंग को घटाकर  BAA3 कर दिया था और निगेटिव आउटलुक बनाए रखा था। मूडीज ने भारत की लोकल-करेंसी सीनियर अनसिक्योर्ड रेटिंग Baa2 से घटाकर Baa3 कर दी है और शॉर्ट टर्म  लोकल-करेंसी रेटिंग P-2 से घटा कर P-3 कर दी है जबकि  आउटलुक निगेटिव बनाए रखा है। S&P और Fitch ने भी पिछले महीने भारत की रेटिंग को जंक से सिर्फ एक पायदान ऊपर रखा। Fitch ने भारत का आउटलुक निगेटिव रखा है।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।