Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आर्थिक सुस्ती का असर, GST के निचले स्लैब को बढ़ाने पर हो सकता है विचार

सूत्रों के मुताबिक जीएसटी के सबसे निचले स्लैब यानी 5 फीसदी को बढ़ाने पर विचार चल रहा है।
अपडेटेड Dec 08, 2019 पर 10:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आर्थिक सुस्ती का असर अब आम आदमी की जेब पर पड़ सकता है। सूत्रों के मुताबिक जीएसटी के सबसे निचले स्लैब यानी 5 फीसदी को बढ़ाने पर विचार चल रहा है।


GST वसूली में कमी आम आदमी पर भारी पड़ सकती है। सरकार GST के 5 फीसदी स्लैब को बढ़ा कर 6-8 फीसदी करने पर विचार कर रही है। GST स्लैब बढ़ने से 1000 करोड़ की अतिरिक्त वसूली होगी। अभी 5 फीसदी, 2 फीसदी, 1 फीसदी से करीब 10 फीसदी राजस्व वसूली होती है। GST दरें बढ़ने से रोजमर्रा के सामान महंगे हो सकते हैं।


बता दें कि आर्थिक सुस्ती से GST वसूली पर असर पड़ा है। हालांकि GST दरों में बढ़ोतरी के प्रस्ताव पर अधिकारियों की कमिटी में चर्चा होगी। राजनैतिक तौर पर फिलहाल फैसला संभव नहीं है। कई राज्यों में विधानसभा चुनाव होने से दिक्कत आएगी। कमिटी की सिफारिश पर काउंसिल की बैठक में इसका फैसला होगा। 18 दिसम्बर को GST काउंसिल की अगली बैठक होगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।