Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 25% गिरेगी इकोनॉमी: CRISIL

अपनी रिपोर्ट में क्रिसिल ने कहा है कि चालु वित्त वर्ष के अप्रैल से जून की पहली तिमाही में इकोनॉमी में 25 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिलेगी।
अपडेटेड May 29, 2020 पर 08:30  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम करने के लिए लगाये गये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के फलस्वरूप देश में महामंदी आ सकती है। देश की इकोनॉमी के बारे में अध्ययन करने के बाद क्रिसिल ने कहा है कि चालु वित्त वर्ष में इकोनॉमी में 5 प्रतिशत और पहली तिमाही में 25 प्रतिशत की गिरावट भी देखने को मिलेगी।


महाराष्ट्र टाइम्स के अनुसार अपनी रिपोर्ट में क्रिसिल ने कहा है कि चालु वित्त वर्ष के अप्रैल से जून की पहली तिमाही में इकोनॉमी में 25 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिलेगी। कोरोना की वजह से लागू किये गये लॉकडाउन के कारण बंद पड़े कारोबार के परिणामस्वरूप पहली तिमाही में जीडीपी में बढ़ोत्तरी होना कठिन है और कुल जीडीपी में से 10 प्रतिशत जीडीपी पर हमेशा के लिए पानी फिर जायेगा।


पिछले 69 सालों में देश में कुल चार बार महामंदी आई है। चालु वित्त वर्ष के पहले देश को सन 1958, सन 1966 और सन 1980 में महामंदी का सामना करना पड़ा था। लेकिन पहले आई हुई तीनों मंदी का कारण एक ही था और वह मौसमी बारिश नहीं होने से खेती का हुआ नुकसान था। इन तीनों सालों में भारतीय इकोनॉमी में कृषि सेक्टर का बड़ा योगदान था और बारिश नहीं होने के कारण तीनों सालों में इकोनॉमी धराशायी हो गई थी।


क्रिसिल ने कहा है शायद इस वित्त वर्ष में (अप्रैल 2020 से मार्च 2021) के दौरान कृषि सेक्टर इस महामंदी में संजीवनी का काम करेगा या इकोनॉमी को थोड़ी बहुत राहत देगा। वहीं 25 मार्च से जारी लॉकडाउन के कारण उद्योग-धंधे ठप पड़ गये और अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। इस वजह से इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही खराब रहेगी। दूसरी तरफ कोरोना का संक्रमण जारी रहने के चलते राज्यों के सामने लॉकडाउन को और बढ़ाने और अनेकों गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाने का संकट भी बरकरार है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।