Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

EPFO ने दी राहत, जन्मतिथि प्रमाण के तौर पर आधार कार्ड होगा मान्य

EPFO ने कहा, पीएफ सब्‍सक्राइबर करेक्‍शन (सुधार) के लिए अनुरोध ऑनलाइन जमा कर सकते हैं
अपडेटेड Apr 06, 2020 पर 16:47  |  स्रोत : Moneycontrol.com

लेबर मिनिस्ट्री (labour ministry) ने रविवार को कहा है कि रिटायरमेंट फंड बॉडी EPFO अपने ग्राहकों के आधार कार्ड में दी गई जन्मतिथि ऑनलाइन स्वीकार कर लेगा।


मंत्रालय ने जारी किए गए अपने बयान में कहा है कि कोरोना वायरस जैसी महामारी के चलते ऑनलाइन सर्विस की पहुंच को बढ़ाने के लिए जन्म तिथि में सुधार किया गया है। अब आधार कार्ड में जो जन्मतिथि है, उसे मान्य किया गया है। बशर्तें उसका KYC पूर्ण होना चाहिए।


बयान के मुताबिक, आधार कार्ड में दर्ज जन्मतिथि को अब सुधार के लिए वैलिड प्रूफ माना जाएगा। लेकिन इसमें शर्त है कि दोनों तारीखों में अंतर 3 साल से कम हो।


पीएफ के ग्राहक सुधार करने के लिए ऑनलाइन भेज सकते हैं।


इसमें कहा गया है कि EPFO को Unique Identification Authority of India (UIDAI) के साथ तत्काल जन्म तिथि का सत्यापन कर सकेगा। इससे रिक्वेस्ट पर काम करने के लिए कम टाइम लगेगा। EPFO ने अपने क्षेत्रीय कार्यालयों से कहा है कि वो ऑनलाइन रिक्वेस्ट को तेजी से निपटाएं। इससे कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के बीच किसी तरह की कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ेगा।   


इससे पहले, EPFO ने अपने ग्राहकों को अपनी बेसिक सैलरी और महंगाई भत्ते को अकाउंट से निकालने की मंजूरी दी थी। हालांकि इस सुविधा का लाभ उन्हीं लोगों को मिलेगा, जिन लोगों ने KYC नियमों का पालन किया है। सरकार के इस फैसले से UAN को KYC नियमों के तहत करने में मदद मिलेगी।


बता दे कि देश में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते देश में लॉकडाउन कर दिया गया था। इसकी वजह से अगर किसी को पैसों की जरूरत हो इसके लिए ये सुविधा दी गई है।