Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

EXCLUSIVE| COVID-19: आनेवाले दिनों में हो सकती है जीवनरक्षक दवाईयों की कमी, जानिये वजह

कोविड-19 के संकट से उबारने वाली जीवनरक्षक दवाईयों की आने वाले हफ्तों में कमी हो सकती है।
अपडेटेड Apr 05, 2020 पर 15:43  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोविड-19 के संकट से उबारने वाली जीवनरक्षक  दवाईयों की आने वाले हफ्तों में कमी हो सकती है। फार्मा विभाग ने गृह मंत्रालय से निवेदन किया है कि कूरियर सेवाओं पर लगे प्रतिबंधों को आसान नहीं किया गया तो आने वाले समय में टियर-1 और टियर-2 शहरों में इन दवाईयों की कमी का सामना करना पड़ सकता है। फार्मा विभाग ने गृह मंत्रालय से कहा है कि दवाईयों की सप्लाई को सुचारू रखने के लिए सहायक सामानों जैसे पैकेजिंग सामग्री की आवाजाही और कूरियर सेवाओं पर से प्रतिबंधों को शिथिल करना आवश्यक है।


फार्मा विभाग के सेक्रेटरी डॉ पी डी वाघेला ने केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला पत्र लिखकर बताया है कि पैकेजिंग सामग्री (टैबलेट और कैप्सुल उत्पादन के लिए आवश्यक), बॉइलर्स को चलाने के लिए जरूरी briquettes/gases जैसे युटिलिटी कंज्यूमेबल्स और स्पेयर पार्ट इस समय ऑपरेट और आपूर्ति नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि कई बार ऐसा हो रहा है कि पुलिस और स्थानीय प्रशासन इन सामानों को समझ ही नहीं पाते कि ये अनिवार्य सामग्री और सेवाएं हैं।


वाघेला ने अपने पत्र में ये भी लिखा है कि दवाईयों की सप्लाई चैन में कूरियर सेवाएं बहुत महत्वपूर्ण कारक हैं। वाघेला ने आगे लिखा है कि फार्मा इंडस्ट्री के मुताबिक बड़े पैमाने पर कूरियर सर्विस नहीं चल रही हैं। कुछ मेट्रो शहरों में कूरियर सेवाएं बहाल हुई हैं परंतु टियर-1 और टियर-2 शहरों में ये सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं।


वाघेला ने अपने पत्र में होम सेक्रेटरी से कहा है कि स्टॉकिस्ट्स के पास से सामान लाने और ले जाने वाले एजेंटो द्वारा किया जाने वाला डिस्पैच एक चुनौती बना हुआ है। यदि कूरियर सेवाएं जल्द ही बहाल नहीं हुईं तो टियर-1 और टियर-2 शहरों तथा देश के ग्रामीण इलाकों में दवाईयों की उपलब्धता पर बड़ा असर पड़ेगा।


पत्र में वाघेला ने केंद्रीय गृह सचिव से कहा है कि इस संकट की घड़ी में जीवन रक्षक अनिवार्य दवाईयों की उपलब्धता को सुनिश्चित करने के लिए इस मुद्दे पर राज्य के अधिकारियों को तुरंत हस्तक्षेप करने की आवश्यकता है इसलिए केंद्र द्वारा इस मुददे से निपटने के लिए राज्य सरकारों को आवश्यक निर्देश दिये जाने की जरूरत है।
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook


(https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।