Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Exclusive: किशोर बियानी के Future Lifestyle Fashions की बाजार से 200-225 करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी

कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन की वजह से फ्यूचर लाइफस्टाइल फैशन के कारोबार को भारी मार पड़ी है।
अपडेटेड May 28, 2020 पर 11:49  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन की वजह से फ्यूचर लाइफस्टाइल फैशन (Future Lifestyle Fashions) के कारोबार को भारी मार पड़ी है।  Lee Cooper, John Miller और इंडिगो नेशन जैसे ब्रांड की बिक्री करने वाली रिटेल दिग्गज और किशोर बियानी की फेल्गशीप फैशन कारोबारी कंपनी फ्यूचर लाइफस्टाल की बाजार से पूंजी जुटाने की योजना है। इसके लिए कंपनी विभिन्न विकल्पों का मूल्याकंन कर रही है। इस पैसे से कंपनी कर्ज का बोझ कम करेगी और अपने कारोबार को बढ़ाएगी। मनीकंट्रोल को यह जानकारी इस मुद्दे से जुड़े सूत्रों से मिली है।


गौरतलब है कि फ्यूचकर ग्रुप प्रमोटरों पर भारी कर्जें, ग्रुप कंपनियों के शेयरों में तेज गिरावट, नकदी की परेशानी जैसी समस्याओं से जुझ रहा है।  COVID-19 महामारी ने इन समस्याओं को और गहरा कर दिया है।


इस मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने मनीकंट्रोल को बताया कि फ्यूचर लाइफस्टाइल फैशन की अगले कुछ महीनों में राइट्स इश्यू अथवा प्रिफरेंशियल एलॉटमेंट (preferential allotment) के जरिए 200-225 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है। यह योजना अभी अपने प्रारंभिक चरण में है। अभी इसके तरीके और समय पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।


बता दें कि 16 मई 2020 को फ्यूचर कंज्यूमर ग्रुप के बोर्ड ने राइट्स इश्यू के जरिए 300 करोड़ रुपये जुटाने की योजना को मंजूरी दी थी। इसके अलावा दो और लोगों ने भी फ्यूचर लाइफस्टाल के फंड जुटाने की योजना की पुष्टि की है।


इनमे से एक सूत्र ने मनीकंट्रोल को बताया कि कोरोना महामारी से बुरी तरह प्रभावित कंपनी के कारोबार को मजबूती देने के लिए फंड जुटाने की योजना है। कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन की वजह से फ्यूचर लाइफस्टाइल फैशन (Future Lifestyle Fashions) के कारोबार को भारी मार पड़ी है। बता दें कि फ्यूचर लाइफस्टाल में  एल कैटरटन एशिया (L Catterton Asia), अजीम प्रेमजी की इन्वेस्टमेंट आर्म प्रेमजी इन्वेस्ट (Azim Premjis investment arm Premji Invest) और दुनिया की सबसे बड़ी अल्ट्रनेटिव एसेट मैनेजर ब्लैकस्टोन में निवेश कर रखा है।


मनीकंट्रोल को एक और सूत्र ने बताया कि ये वर्किंग कैपिटल जुटाने और कर्ज चुकाने की अवधि को बढ़ाने के लिए बैंकों से बातचीत कर रहे हैं। इसके लिए प्राइम सिक्योरिटी को एडवाइजर नियुक्त किया गया है। इन सूत्रों ने मनीकंट्रोल को गोपनीयता बनाए रखने की शर्त पर यह जानकारियां दी हैं।


इस संदर्भ में मनीकंट्रोल द्वारा फ्यूचर ग्रुप को भेजे गए ईमेल का कोई जवाब नहीं मिला है। मनीकंट्रोल प्राइम सिक्योरिटीज को भेजे गए अपने मेल के भी जवाब का इंतजार कर रहा है।


गौरतलब है कि फ्यूचर लाइफस्टाइल फैशन के शेयरों में पिछले 3 महीनों में 60 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है। 26 मई को कंपनी की मार्केट कैप 2818 करोड़ रुपये थी। कंपनी में प्रमोटरों की हिस्सेदारी 45.78 फीसदी है।


कंपनी में एल कैटरटन एशिया (L Catterton Asia) की हिस्सेदारी 10 फीसदी, प्रेमजी इन्वेस्ट (Premji Invest) की 7 फीसदी,  ब्लैकस्टोन (Blackstone) की 5.79 फीसदी और एक अन्य निवेशक अपोलो प्राइवेट इक्विटी (Apollo Private Equity) की  3.2 फीसदी हिस्सेदारी है। इसके अलावा सरकारी कंपनी एलआईसी (LIC) की भी इसमें 7 फीसदी हिस्सेदारी है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।