Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

नकली कॉस्मेटिक मामला, ई-कॉम कंपनियों की मुश्किल बढ़ी

प्रकाशित Thu, 01, 2018 पर 10:04  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

प्रतिबंधित और नकली कॉस्मेटिक प्रोडेक्ट बेचने पर दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनियों फ्लिपकार्ट, अमेजॉन और इंडिया मार्ट की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। ड्रग कंट्रोलर की ओर से नोटिस जारी होने के बाद कंपनियों ने इस बात को गंभीर से लिया है। जिसके बाद कंपनियों ने अपने इंपोर्टेड कॉस्मेटिक प्रोडक्ट की रेंज 50 फीसदी तक कम कर दी है। कंपनियों पर आरोप है कि कंपनियां बिना इंपोर्ट रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस के प्रतिबंधित और नकली कॉस्मेटिक प्रोडेक्ट लगातार बेच रही है।


इस मामले में ड्रग कंट्रोलर की ओर से अमेजॉन, फ्लिपकॉर्ट, इंडियामार्ट को कारण बताओ नोटिस जारी की गई है। इन कंपनियों के खिलाफ ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट उल्लंघन मामले में कार्रवाई हो सकती है। ड्रग कंट्रोलर की इंटेलिजेंस सेल 3 माह से ई-कॉमर्स कंपनियों पर नजर रख रही थी। इंवेस्टिगेशन और सबूत जुटाने के बाद छापेमारी की गई। 5 और 6 अक्तूबर को देश भर में छापेमारी हुई और 5 करोड़ का सामान जब्त किया गया।


इधर अमेजॉन ने सफाई दी है कि वो एक थर्ड पार्टी मार्केटप्लेस है और प्रोडक्ट की पूरी जिम्मेदारी सेलर्स की होती है। गलत प्रोडक्ट बेचने वाले सेलर्स के खिलाफ अमेजॉन सख्त है और कानून और तय प्रक्रिया के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी।