Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

लोन बांटने पर वित्त मंत्रालय का बड़ा कदम, लोन बांटने में ना डरें बैंक कर्मचारी !

50 करोड़ रुपए से ज्यादा के लोन फ्रॉड की जांच अब सीधे विजिलेंस को ट्रांसफर नहीं होगा।
अपडेटेड Jan 29, 2020 पर 14:23  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

लोन बांटने को लेकर अब बैंक अधिकारियों को डरने की जरूरत नहीं है। वित्त मंत्रालय ने इसको लेकर एक बड़ा कदम उठाया है जिसके तहत 50 करोड़ रुपए से ज्यादा के लोन फ्रॉड की जांच अब सीधे विजिलेंस को ट्रांसफर नहीं होगा। अब ₹50 करोड़ से ज्यादा के फ्रॉड की जांच सीधे CVC से नहीं होकर पहले एडवाइजरी बोर्ड ABBFF यानी Advisory Board for Banking and Financial Frauds से होगी। बोर्ड जरूरी समझेगा तभी विजिलेंस को केस ट्रांसफर होगा। 50 करोड़ से ज्यादा के फ्रॉड को CVC खुद नहीं जांचेगा। ये बैंकों के एमडी और सीईओ की व्यक्तिगत जिम्मेदारी की बजाय अब बोर्ड की सामूहिक जिम्मेदारी होगी। अनुशासनहीनता या फिर विजिलेंस की जो भी अंदरूनी जांच होगी उसकी नियमित तौर पर निगरानी करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की कमेटी बनाई गई है।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।