Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट पर फोकस, पॉलिश्ड डायमंड-कलर्ड-जेम्स स्टोन पर घटेगी इंपोर्ट ड्यूटी

घटते एक्सपोर्ट औऱ बढ़ती बेरोजगारी को थामने के लिए अब एक्सपोर्ट सेक्टर पर सरकार का फोकस है।
अपडेटेड Sep 08, 2019 पर 09:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

घटते एक्सपोर्ट औऱ बढ़ती बेरोजगारी को थामने के लिए अब एक्सपोर्ट सेक्टर पर सरकार का फोकस है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सरकार जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए पॉलिश्ड डायमंड और कलर्ड जेम्स स्टोन पर इंपोर्ट ड्यूटी घटाने पर विचार कर रही है। जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर को महंगे स्टोन इंपोर्ट से छुटकारा मुमकिन है। सूत्रों के मुताबिक पॉलिश्ड डायमंड पर इंपोर्ट ड्यूटी घटाकर 2.5 फीसदी करने और कलर्ड जेम्स स्टोन पर इंपोर्ट ड्यूटी घटाकर 2.5 फीसदी करने पर विचार किया जा रहा है। बता दें कि दोनों पर इंपोर्ट ड्यूटी 2.5 फीसदी से बढ़ाकर 7.5 फीसदी किया गया था।


सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सिल्वर और प्लैटिनम को भी IGST से छूट देने पर विचार किया जा सकता है। जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर के कंसाइनमेंट के क्लियरेंस के लिए आसान SOP (Standard Operating Procedure) जारी किया जा सकता है। एसईजेड से फ्री ट्रेड एरिया में सामान लाने पर ड्यूटी में 40 से 50 फीसदी की छूट दी जा सकती है। इसके साथ ही स्पेशल इकोनॉमिक जोन के लिए सनसेट क्लॉज तत्काल बढ़ाने पर विचार किया जा सकता है और SEZ के लिए मिनिमम एरिया लिमिट की समीक्षा की जा सकती है।


सूत्रों के मुताबिक सरकार का स्टील, एग्री, फार्मा एक्सपोर्ट पर फोकस होगा। एक्पसोर्ट को बढ़ावा देने के लिए ईसीजीसी यानी एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन का कवरेज 60 फीसदी से बढ़ाकर 80 से 90 फीसदी किया जा सकता है।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।